पुष्य नक्षत्र : 11 अक्टूबर रविवार को रहेगा पुष्य नक्षत्र, खरीदारी के लिए शुभ दिन

भोपाल। ज्योतिष गणना के अनुसार 11 अक्टूबर रविवार को रवि पुष्य नक्षत्र का महासंयोग बन रहा है। यह योग पूजा-अनुष्ठान के साथ ही खरीदारी के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है। मां चामुंडा दरबार के पुजारी पंडित रामजीवन दुबे ने बताया कि अभी दान-पुण्य और प्रभुश्री की आराधना का पुरुषोत्तम मास चल रहा है। इस पवित्र महीने में 11 अक्टूबर के रविवार को रवि पुष्य का संयोग बना है, अधिकमास के चलते यह दिन धार्मिक अनुष्ठान आदि के साथ ही खरीदारी के लिए शुभ है। इस दिन की गई खरीदारी मंगलमय व स्थाई मानी जाती है।

टैलेंट के मामले में टाप 10 में भी नहीं आते मध्य प्रदेश के युवा : SKILLS REPORT

ज्योतिषाचार्य विनोद रावत ने बताया कि वर्ष में बहुत कम ही अवसर आता है, जब यह योग बनता है। पुष्य नक्षत्र सूर्योदय से लेकर रात्रि तक रहेगा। रवि पुष्य नक्षत्रों का राजा माना जाता है। पुष्य नक्षत्र प्रतिमाह आता है, लेकिन रवि पुष्य नक्षत्र का संयोग वर्ष में एक या दो बार ही बनता है। रविवार को सुबह 7 बजकर 30 मिनट से 9 बजे तक चर, सुबह 9 से साढे 10 बजकर 30 मिनट तक लाभ, सुबह 10?30 से 12 बजे तक अमृत, दोपहर 1.30 बजे से 3 बजे तक शुभ, शाम 6 से 7?30 बजे तक शुभ, रात्रि 7?30 से 9 बजे तक अमृत और रात्रि 9 से 10?30 बजे तक चर योग बनेगा।


हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookInstagramGoogle News ,Twitter

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे  

Powered by Blogger.