MP : कल से खुलेंगे कॉलेज, गाइडलाइन तय नहीं होने से विद्यार्थियों की सुरक्षा पर सवाल

Telegram

जबलपुर। कोरोना संक्रमण से बंद कॉलेज 20 जनवरी से खुलने जा रहे हैं। उच्च शिक्षा विभाग की साफ हिदायत है कि जिला प्रशासन के आपदा प्रबंधन की गाइडलाइन के मुताबिक ही कॉलेज खुलें लेकिन ऐसा अब तक नहीं हो सका है। मंगलवार तक प्रशासन की तरफ से किसी तरह की बैठक नहीं हुई। जबकि अग्रणी कॉलेज का दावा है कि उनके द्वारा 10 दिन पहले ही प्रशासन को आपदा प्रबंधन के दिशा-निर्देश के लिए पत्र लिखा गया है।

कुख्यात बदमाश का आलीशान बंगला ध्वस्त : सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा कर तान दी थी बिल्डिंग

प्रशासन तय करेगा एक कक्षा में कितने विद्यार्थी बैठेंगे : ज्ञात हो कि मार्च 2019 से लगे लाकडाउन के बाद से कॉलेज बंद थे। एक जनवरी से प्रायोगिक परीक्षाओं को लेकर कॉलेज खुलना शुरू हुए। अब 20 जनवरी से प्रथम, द्वितीय और तृतीय वर्ष की स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं को खोला जाना है। उच्च शिक्षा विभाग ने सभी जिलों के अग्रणी कॉलेज से इस संबंध में जिला प्रशासन के आपदा प्रबंधन समिति की सिफारिशों के अनुसार ही शैक्षणिक संस्थान खोलने के निर्देश दिए है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रशासन की गाइड लाइन के अनुसार ही कॉलेजों को खुलना है। इसमें प्रशासन तय करेगा कि एक कक्षा में कितने विद्यार्थी होंगे, क्या गतिविधियां होगी और सुरक्षित रहने के लिए क्या किया जाए। अभी तक आपदा प्रबंधन की बैठक नहीं होने के कारण कॉलेज संचालक भी पशोपेश में है। विद्यार्थी 20 जनवरी को कॉलेज पहुंचने लगेंगे, ऐसे में शिक्षण संस्थानों में क्या व्यवस्था की जाए यह साफ नहीं हुआ है। 

किराये के मकान में चल रहा था सेक्स रैकेट, 2 युवक और 7 युवतियां गिरफ्तार

सैकड़ों विद्यार्थियों की सुरक्षा का सवाल : आपदा प्रबंधन की गाइड लाइन तय नहीं होने से विद्यार्थियों की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो गए हैं। कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए कॉलेज परंपरागत ढंग से ही तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में यदि विद्यार्थी भीड़ में पहुंचे तो उनमें संक्रमण फैलने का डर बना रहेगा।

सावधान! चीनी ऐप्स से कहीं इस्टेंट लोन तो नहीं लिया : साबित हो रहे जानलेवा

आफलाइन के साथ आनलाइन भी कक्षाएं : भले ही उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश पर आफलाइन कॉलेज की कक्षाएं प्रारंभ हो गई हैं लेकिन आनलाइन भी पढ़ाई होगी। शासकीय महाकोशल कॉलेज की प्राचार्य डॉ.आभा पांडे ने कहा कि अभी स्वेच्छा से ही विद्यार्थी कक्षाओं में उपस्थिति होंगे। उन्हें कॉलेज आना अनिवार्य नहीं होगा। उनके अनुसार आपदा प्रबंधन की बैठक जिला प्रशासन को करनी है इस संबंध में उन्हें 10 दिन पहले ही नोटिफिकेशन दिया जा चुका है। इसके अलावा संभागीय क्षेत्रीय अतिरिक्त संचालक डॉ.लीला भलावी ने कहा कि सभी जिलों में जिला प्रशासन के साथ समन्वय बनाकर शिक्षण संस्थानों को खोलने की योजना पर कार्य किया जा रहा है। सुरक्षा का विशेष ध्यान दिया जा रहा है।


हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FACEBOOK PAGE INSTAGRAMGOOGLE NEWS ,TWITTER

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे

Powered by Blogger.