REWA : भारत-चीन की सीमा पर देश की रक्षा करते शहीद हुए दीपक को वीर चक्र का सम्मान

रीवा। भारत-चीन की सीमा पर देश की रक्षा करते शहीद हुए रीवा के फरेंदा निवासी दीपक सिंह गहरवार को सरकार ने वीर चक्र से सम्मानित किया है। गणतंत्र दिवस के एक दिन पूर्व घोषित किए गए नामों में दीपक सिंह गहरवार का भी नाम शामिल है। बीते 15 जून 2020 को गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प हो गई थी। जिसमें देश के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसी में दीपक भी शामिल थे। इसमें शहीद हुए कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र दिया गया है, वह भारत के सेना की टुकड़ी का नेतृत्व कर रहे थे और देश की सीमा में घुसने का प्रयास कर चीनी सैनिकों को रोकने के लिए मोर्चा संभाला था।

गलवान घाटी में हुए शहीद रीवा के सपूत को मिला 'वीर चक्र'

लॉकडाउन खुलते ही आने का किया था वादा, अब तिरंगे में लिपटा आएगा पार्थिव शरीर

युद्धकाल के तीसरे सर्वोच्च सम्मान वीर चक्र से पांच सैनिकों को सम्मानित किया गया है। जिसमें नायक दीपक सिंह गहरवार के साथ ही हवलदार तेजिंदर सिंह, के पलानी, गुरतेज सिंह आदि को भी वीर चक्र दिया गया है। दीपक की शहादत पर बड़ी संख्या में लोग श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। मुख्यमंत्री सहित कई जनप्रतिनिधियों ने शहीद को अंतिम विदाई दी थी।

मुख्यमंत्री शिवराज ने ग्राम पहड़िया में कचरा शोधन यंत्र का किया लोकार्पण

चीन की कायराना हरकत पर मुंहतोड़ जवाब देने के लिए लगातार लोग मांग उठा रहे हैं। शहादत से करीब आठ महीने पहले ही दीपक का विवाह हुआ था। घटना के 15 दिन पहले ही वह गांव से गए थे और परिवार से कहा था कि गलवान घाटी में ड्यूटी करने के बाद जब वापस आएंगे तो गांव सीधे आएंगे। दीपक को वीर चक्र का सम्मान मिलने के बाद क्षेत्र के लोगों ने अपने को गौरवांवित महसूस किया है।

पत्नी को नौकरी भी मिली

25 जनवरी सोमवार का दिन शहीद दीपक के परिवार के लिए यादगार बन गया। एक ओर पत्नी रेखा सिंह को चोरगड़ी गांव के स्कूल में ज्वाइनिंग मिली और दूसरी ओर सायं सूचना मिली कि वीर चक्र का सम्मान देने की घोषणा सरकार ने की है। दीपक के भाई प्रकाश ने बताया कि रीवा के चिरहुला कालोनी में सरकार की ओर से आवास भी मुहैया कराने की प्रक्रिया चल रही है। गांव के लोगों ने तोरण द्वार भी शहीद की स्मृति में बनवाया है।

अस्पताल की घोषणा पर अमल नहीं

दीपक सिंह की शहादत के समय श्रद्धांजलि देने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि एक करोड़ की श्रद्धा सम्मान निधि, परिवार के एक सदस्य को नौकरी, शहर में आवास, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, गांव में स्मारक, प्रतिमा लगाने, सड़क का नाम शहीद दीपक के नाम पर करने आदि की बातें शामिल थी। अब राजनीतिक कारणों से अस्पताल को मनिकवार में बनाने की तैयारी चल रही है। प्रतिमा भी अभी नहीं लगाई गई है, स्मारक बनाने की तैयारी है।

रीवा में फ्लाइओवर के नामकरण की मांग

रीवा में न्यू बस स्टैंड के सामने बनाए जा रहे फ्लाइओवर का शहीद दीपक के नाम पर करने की मांग उठाई गई है। वार्ड 13 की निर्वतमान पार्षद नम्रता सिंह ने कलेक्टर को पत्र देकर मांग उठाई है कि शहीद के लिए यह नामकरण सम्मान होगा।

Powered by Blogger.