MP : निर्माणधीन मकान पर स्टे लगाने की धमकी देकर प्रभारी तहसीलदार ने मांगी एक लाख की रिश्वत, लोकायुक्त ने घूस लेते किया ट्रैप

सागर लोकायुक्त टीम ने बुधवार सुबह पन्ना के अजयगढ़ में प्रभारी तहसीलदार को 1 लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा। पिछले 15 दिनों में यह तीसरा घूसखोर पकड़ा गया है। अजयगढ़ के प्रभारी तहसीलदार उमेश तिवारी ने वार्ड क्रमांक 14 में रहने वाले अंकित पिता राजकुमार मिश्रा के निर्माणधीन मकान पर स्टे लगाने की धमकी देकर रिश्वत की मांग की थी। पीड़ित ने इसकी शिकायत सागर लोकायुक्त में की। बुधवार सुबह करीब 10 बजे अजयगढ़ रेस्ट हाउस के कमरा नंबर तीन में लोकायुक्त डीएसपी राजेश खेड़े ने तहसीलदार को रंगे हाथों ट्रैप किया।

26 जनवरी के बाद से एक बार फिर ठंड का असर तेज, चार साल बाद जनवरी में रात का तापमान सबसे ज्यादा 15.9 डिग्री तक पहुंचा

शिकायतकर्ता अंकित मिश्रा (25) ने बताया कि उनका अजयगढ़ के माधवगंज में 45 बाय 70 का प्लॉट है। जिस पर कई दिनों से निर्माण कार्य चल रहा है। उनके पास प्लॉट के नामांतरण से लेकर अन्य सभी कागज हैं। इसके बाद भी प्रभारी तहसीलदार उमेश तिवारी द्वारा परेशान कर रिश्वत की मांग की जा रही थी। अंकित ने बताया कि कुछ दिन पहले तहसीलदार ने बुलाया और 1 लाख रुपए की मांग की। पैसे न देने पर मकान पर स्टे देने की बात कही। अंकित का आरोप है कि तहसीलदार ने बुरा बर्ताव किया व अपशब्द भी कहे।

मध्यप्रदेश में सामने आया लव जिहाद का मामला, अरशद नाम के युवक ने आशु बनकर युवती को फ़साकर एक साल तक करता रहा यौन शोषण : फिर ...

अंकित ने बताया कि उन्होंने तहसीलदार से कहा कि मैं गरीब आदमी हूं, किसान हूं इतना पैसा नहीं है। मैं 50 हजार की व्यवस्था कर सकता हूं, लेकिन तहसीलदार नहीं माने और 1 लाख रुपए की मांग पर अड़े रहे। परेशान होकर अंकित ने इसकी शिकायत सागर लोकायुक्त में कर दी। लोकायुक्त टीम ने तहसीलदार को ट्रैप करने का प्लान बनाया। बुधवार सुबह अंकित को पैसे लेकर तहसीलदार के पास भेजा गया। जहां तहसीलदार उमेश तिवारी को रंगे हाथों पकड़ा गया।

मामा-भांजे की जोड़ी मिलकर छाप रही थी लाखों की नकली नोट, 6 लोगों की गिरफ्तारी से हुआ खुलासा

इसके पहले दो इंजीनियरों को पकड़ा था घूस लेते

इसके पहले बीना के एक ठेकेदार से 26 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए मंडी बोर्ड के सहायक इंजीनियर को लोकायुक्त ने 13 जनवरी की दोपहर रंगे हाथ पकड़ा था। मंडी बोर्ड के संभागीय कार्यालय में पदस्थ सब इंजीनियर एनएस राजपूत ने ठेकेदार राकेश मोहन राय से धरोहर राशि 2 लाख 57 हजार रुपए के एवज में यह घूस मांगी थी। लोकायुक्त सागर ने इंजीनियर को कार्यालय में ही घूस लेते रंगे हाथों ट्रैप किया था। इसके पहले 7 जनवरी को कृषि अभियांत्रिकीय विभाग में पदस्थ यांत्रिकी सहायक राजसिंह को 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों उसके वर्कशॉप से पकड़ा था।

Powered by Blogger.