MP : बच्चों को लुभाने वाली लालीपॉप और कैंडी में मिला रहे थे टेल्कम पाउडर

इंदौर । बच्चों को लुभाने वाली कैंडी और लालीपॉप में ऐसी चीजें मिलाई जा रही हैं जो खाने योग्य नहीं हैं। शहर के पालदा इलाके में केएस इंडस्ट्रीज कंफेक्शनरी में ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां लालीपॉप और कैंडी में टेल्कम पाउडर मिलाया जा रहा था। खाद्य और औषधि प्रशासन की टीम ने सोमवार को पालदा में केएस इंडस्ट्रीज के कारखाने पर छापामार कार्रवाई की तो मिलावट की यह कहानी सामने आई। यहां से 4 हजार 200 किलो लालीपॉप और 5 हजार 600 किलो कैंडी जब्त की। अपर कलेक्टर अभय बेड़ेकर ने बताया कि केएस इंडस्ट्रीज के मालिक कृष्णा पति अनिल अग्रवाल और सिमरन पति विजय सबनानी हैं। खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम के तहत जिम्मेदारों पर प्रकरण दर्ज किया जा रहा है। कार्रवाई के लिए पहुंचे खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने पाया कि कारखाने में गंदगी के बीच लालीपॉप और कैंडी का निर्माण किया जा रहा था।

बर्ड फ्लू को लेकर गृह विभाग ने भेजी कलेक्टरों को गाइडलाइन : कहा-सख्ती से हो पालन

एक बोरे में सफेद रंग का पाउडर था। जांचने पर पता चला कि वह टेल्कम पाउडर है जो लालीपॉप और कैंडी में मिलाया जाता है। यहां कोला-कोला, फ्रूपिंस, फ्रूटोज जैसे अलग-अलग नामों से लालीपॉप और कैंडी बनाई जा रही थी। कारखाने में लेबलिंग के नियमों का भी उल्लंघन किया जा रहा था। खाद्य सुरक्षा अधिकारी धर्मेंद्र सोनी, सुभाष खेड़कर, राजू सोलंकी, सुधाकर आदि की टीम कार्रवाई के लिए पहुंची थी। टेल्कम पाउडर इसलिए मिलाया जा रहा था कि ताकि लालीपॉप और कैंडी बनाने के बाद वह प्लेट पर न चिपक पाए।

वैक्सीन लगने के 9 दिन बाद भोपाल के 42 वर्षीय वॉलंटियर की मौत, भारत बायोटेक बोली- डोज से संबंध नहीं

लगातार हो रही कार्रवाई

मालूम हो कि शहर में लगातार मिलावटखोरों पर कार्रवाई की जा रही है। इसके तहत खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम के साथ जिला प्रशासन की टीम भी काम कर रही है। हाल ही में सांवेर रोड पर एक फैक्ट्री का अवैध निर्माण भी तोड़ दिया था।

Powered by Blogger.