वैक्सीन लगने के 9 दिन बाद भोपाल के 42 वर्षीय वॉलंटियर की मौत, भारत बायोटेक बोली- डोज से संबंध नहीं

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन को ट्रायल के दौरान एक 42 वर्षीय वॉलंटियर की मौत का  मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि युवक को 9 दिन पहले ट्रायल के तौर पर कोवैक्सीन का टीका लगाया गया था। युवक की मौत पर सवाल उठाए हैं। वहीं मामले को लेकर भारत बायोटेक की ओर से कहा गया कि वॉलंटियर की मौत डोज देने के 9 दिन बाद हुई और प्रारंभिक जांच के मुताबिक मृत्यु का डोज से कोई संबंध नहीं है। कंपनी ने मृतक के परिवार के प्रति सहानुभूति जताई है।

चार दरिंदे उसे नाेंच रहे थे, वह चीखती हुई मेरे पास आई, मैंने डंडा उठाकर दुष्कर्मियों को ललकारा तो भाग खड़े हुए : श्रीबाई

रिपोर्ट्स के मुताबिक भोपाल के पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में 12 दिसंबर को कोवैक्सीन का ट्रायल टीका लगवाने वाले दीपक मरावी नाम के वॉलंटियर की 21 दिसंबर को मौत हो गई थी। मरावी टीला जमालपुरा स्थित सूबेदार कॉलोनी में अपने घर में मृत पाए गए थे। मृतक के बेटे ने मृत्यु की सूचना पीपुल्स कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च सेंटर को दी थी।पुलिस ने मामले की जांच करते हुए 22 दिसंबर को उनके शव का पोस्टमॉर्टम कराया। परिवार ने मौत पर सवाल उठाए थे।

चुनरी चढ़ाते हुए लग रहे थे मां नर्मदा के जयकारे, देखते ही देखते पलट गई थी नाव, दो की जान गई

भारत बायोटेक ने कहा कि वॉलंटियर ने नामांकन के समय तीसरे चरण के ट्रायल में एक भागीदार के रूप में स्वीकार किए जाने के लिए सभी मानदंडों को पूरा किया था। जब उसे वैक्सीन की डोज दी गई, उसके बाद भी उसके सेहत पर निगरानी रखी जा रही थी। 

बर्ड फ्लू को लेकर प्रदेश में हाई अलर्ट, कौओं के बाद अब मुर्गियों में भी मिले लक्षण

भारत बायोटेक ने कहा कि वैक्सीन की डोज देने के 7 दिन बाद रिपोर्ट में उसके स्वस्थ होने की सूचना दी गई थी। भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज के द्वारा जारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से भोपाल पुलिस के मुताबिक मौत का संभावित कारण कार्डियो रेस्पिरेटरी फेलियर हो सकता है, जो कि हो सकता है जहर के चलते हुआ हो। भारत बायोटेक ने कहा कि कंपनी यह नहीं बता सकती कि वॉलंटियर को वैक्सीन दी गई थी या प्लेसिबो, क्योंकि स्टडी का अभी खुलासा नहीं हुआ है।

Powered by Blogger.