MP : अगले माह होने वाली स्नातक परीक्षाओं को लेकर असमंजस, परीक्षा का विरोध तेज, भूख हड़ताल और प्रदर्शन

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

    

इंदौर । कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच अगले माह होने वाली स्नातक परीक्षाओं को लेकर असमंजस है। आफलाइन का विरोध कर रहे विद्यार्थी ओपन बुक पद्धति से परीक्षा करवाने पर अड़े हैं। लगातार प्रदर्शन और धरनों के कारण देवी अहिल्या विश्वविद्यालय ने परीक्षा संचालित करने पर उच्च शिक्षा विभाग से मार्गदर्शन मांगा है, लेकिन अभी तक वहां से कोई उत्तर नहीं मिला है। विभागीय सूत्रों के अनुसार बीए, बीकाम और बीएससी अंतिम वर्ष की आफलाइन परीक्षा ही करवाई जा सकती है। साथ ही प्रथम-द्वितीय वर्ष की परीक्षा के लिए विकल्प खोजे जा रहे हैं। बताया जाता है कि ओपन बुक पद्धति के अलावा जनरल प्रमोशन पर भी विचार किया जा रहा है।

छेड़छाड़ से तंग आकर 11वीं की छात्रा ने किया सुसाइड : सुसाइड नोट में लिखा कॉलोनी के ही लड़के का नाम : फिर हुआ ये ..

फरवरी में विभाग के आदेश पर विश्वविद्यालय ने बीए, बीकाम, बीएससी सहित अन्य स्नातक कक्षाओं की आफलाइन परीक्षा एक अप्रैल से 15 मई के बीच रखी है। विरोध के बीच अब विश्वविद्यालय ने विभाग को पत्र लिखकर लगातार हो रहे प्रदर्शन और धरना आंदोलनों से अवगत कराया है। इस बीच अतिरिक्त संचालक डा. सुरेश सिलावट ने विभाग को पत्र लिखकर परीक्षा करवाने के सुझाव दिए हैं। इसमें अंतिम वर्ष की परीक्षा आफलाइन और प्रथम-द्वितीय वर्ष की परीक्षा ओपन बुक पद्धति से लेने के बारे में बताया है। इस सुझाव पर विश्वविद्यालय भी सहमत है। विश्वविद्यालय के अधिकारियों का तर्क है कि विद्यार्थियों के लिए अंतिम वर्ष काफी महत्वपूर्ण होता है। इस दृष्टि से आफलाइन परीक्षा आवश्यक है जिससे उन्हें फाइनल प्लेसमेंट व स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में आसानी से प्रवेश मिल सके। प्रथम-द्वितीय वर्ष में ओपन बुक पद्धति से परीक्षा करवाई जा सकती है या फिर जनरल प्रमोशन दे सकते हैं।

लड़की से संबंध बनाने की शर्त : मैनेजर बोला- मैडम आपमें बहुत आकर्षण है, मुझसे दोस्ती कर लो सब काम हो जाएगा

इन पर विभाग में मंथन शुरू हो चुका है। इस कारण परीक्षाओं पर अभी तक निर्णय नहीं लिया गया है। हालांकि गुरुवार तक स्थिति स्पष्ट होने की उम्मीद है। फिलहाल विश्वविद्यालय प्रशासन विभाग के आदेश की प्रतीक्षा कर रहा है। परीक्षा नियंत्रक डा. अशेष तिवारी का कहना है कि उच्च शिक्षा विभाग को परीक्षा से जुड़ी परिस्थितियों से अवगत करा दिया है। वैसे विवि आफलाइन और ओपन बुक पद्धति दोनों से परीक्षा करवाने को तैयार है। अतिरिक्त संचालक डा. सिलावट का कहना है कि मंगलवार को विभाग मुख्यालय पर अधिकारियों की बैठक हुई थी, लेकिन निर्णय अभी नहीं हुआ है। संभवत: गुरुवार तक आदेश आ सकता है।

थाली बजाओ, सायरन बजाओ और चिल्लाओ..इस नौटंकी से खत्म नहीं होगा कोरोना : कमलनाथ

शेष विश्वविद्यालयों की ओर से आवेदन नहीं

प्रदेशभर में अभी मात्र तीन शहरों इंदौर, भोपाल और जबलपुर में संक्रमण बढ़ा है। केवल देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की आफलाइन परीक्षा को लेकर विद्यार्थी विरोध कर रहे हैं। इसे लेकर अधिकारियों ने परीक्षा पर विभाग से राय मांगी है। उच्च शिक्षा विभाग को शेष किसी भी विश्वविद्यालय से ओपन बुक पद्धति से परीक्षा करवाने को लेकर कोई आवेदन नहीं मिला है। यही कारण है कि विभाग को परीक्षा पर निर्णय लेने में समय लग रहा है। सूत्रों के अनुसार यदि डीएवीवी में इस बार भी ओपन बुक पद्धति से परीक्षा होती है तो शेष विवि भी यही मांग उठा सकते हैं। इसलिए विभाग काफी सोच-विचार कर रहा है।

कोरोना की नई गाइडलाइन जारी : अब शादियों में सीमित लोगों को ही बुला सकेंगे, होली पर नहीं निकलेंगे जुलुस

परीक्षा का विरोध तेज, भूख हड़ताल और प्रदर्शन

आफलाइन परीक्षा को लेकर विद्यार्थियों को विरोध तेज हो गया है। मंगलवार को देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में काफी हलचल रही। जहां एक ओर छात्र नेता जावेद खान और कुछ विद्यार्थी भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। साथ ही भाराछासं के छात्र नेता विकास नंदवाना ने ओपन बुक पद्धति के लिए जमकर हंगामा किया। मौके पर पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी भी पहुंच गए। लगभग आधे घंटे कुलपति डा. रेणु जैन, रेक्टर प्रो. अशोक शर्मा, प्रभारी कुलसचिव अनिल शर्मा, छात्र कल्याण संघ के अध्यक्ष डा. एलके त्रिपाठी से चर्चा हुई। उधर शाम को कुलपति और प्रभारी कुलसचिव ने भूख हड़ताल पर बैठे विद्यार्थियों को समझाया और कहा कि अगले 36 घंटे में परीक्षा पर स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

Powered by Blogger.