REWA : आधी रात को संजय गाँधी की चौथी मंजिल से कांस्टेबल ने लगाई छलांग : पिता के नाम लिखा तीन पन्नों का सुसाइड नोट

रीवा शहर के संजय गांधी अस्पताल में आधी रात को चौथी मंजिल से कूदकर जेल प्रहरी ने जान दे दी। गार्डों ने उसे तड़पते देख आनन फानन में इमरजेंसी वार्ड में रात को दाखिल कराया। उपचार शुरू करने से पहले ही उसकी मौत हो गई। बुधवार देर रात रात 1 बजे हुई घटना की जानकारी अस्पताल प्रबंधन ने अमहिया पुलिस को दी। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने आरक्षक की जेब से पिता के नाम का सुसाइड नोट बरामद किया है। साथ ही रीवा केन्द्रीय जेल और आरक्षक के मोबाइल फोन से परिजनों को सूचना दे दी गई है। सात मई को उसकी शादी थी।

निजी अस्पतालों की बढ़ती जा रही मनमर्जी, उपचार के नाम पर जमकर वसूली : कैश हो तो ही मिलेगा कोरोना का इलाज

मिली जानकारी के मुताबि​क रीवा केन्द्रीय जेल में पदस्थ जेल प्रहरी नरेश तोमर निवासी ​ग्वालियर की ड्यूटी संजय गांधी अस्पताल के बंदी वार्ड में लगाई गई थी। जो बुधवार की रात 10.30 बजे तक संजय गांधी अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात रहा। इसके बाद वह अपने आवास चला गया। फिर अज्ञात कारणों से वह दोबारा 12.30 बजे संजय गांधी अस्पताल पहुंचा। रात करीब 1 बजे चौथी मंजिल पर चढ़कर छलांग लगा दी। चार मंजिल से गिरने के बाद जेल प्रहरी लहूलुहान हो गया। गिरने पर संजय गांधी अस्पताल के गार्डों ने देखा। आनन फानन में जेल प्रहरी को उठाकर इमरजेंसी वार्ड में दाखिल किया गया। ​जहां पर ड्यूटी डॉक्टरों ने तुरंत आईसीयू में लेकर उपचार शुरू किया, लेकिन उसने पहले ही दम तोड़ दिया।

तीन पन्नों का मिला सुसाइड नोट

अमहिया पुलिस ने बताया है जेल प्रहरी के पेंट की जेब से तीन पन्नों का सुसाइड नोट मिला है जो पिता के नाम पर है। सुसाइड नोट में क्या लिखा है यह खुलासा नहीं हुआ है। अमहिया पुलिस ने जेल प्रहरी के सुसाइड की सूचना रीवा केन्द्रीय जेल प्रबंधन और ग्वालियर स्थित परिजनों को दे दी है। कयास लगाए जा रहे है​ कि मृतक​ जेल प्रहरी के परिजनों के पहुंचने के बाद ही पोस्ट मार्टम किया जाएगा।

Powered by Blogger.