CG NEWS : कोरोना संक्रमण के मामले को देखते हुए क्रिकेट स्टेडियम, कलेक्टोरेट पार्किंग और खाली सामुदायिक भवनों को भी बना सकते हैं कोविड सेंटर

रायपुर। राजधानी में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार आ रहे हैं। कोरोना की जद में आने वाले मरीज अस्पतालों में बेड़ के लिए भटक रहे हैं, लेकिन बेड नहीं मिल पा रहा है, क्योंकि सरकारी से लेकर प्राइवेट अस्पतालों में बेड़ खाली नहीं हैं। प्राइवेट अस्पतालों में किसी को बेड़ मिल भी गया तो उनको उसकी मंहगी कीमत चुकानी पड़ रही है। क्योंकि प्राइवेट अस्पताल संचालकों ने कोरोना को आपदा का अवसर बना लिया है।

मैरिज ब्यूरो की आड़ में नाबालिग लड़कियों को बेचने का चल रहा था रैकेट : ऐसे हुआ पर्दाफाश : पढ़िए

ऐसे हालात में प्रशासन को सुविधाएं बढ़ानी चाहिए। राजधानी में बेड की कमी न हो इसके लिए भाटागांव नया बस टर्मिनल, अंतरराष्ट्री क्रिकेट स्टेडियम, कलेक्टोरेट पार्किंग जैसी जगहों को कोविड सेंटर के रुप में तब्दील किया जा सकता है। इससे राजधानी में अस्पतालों में हो रही बिस्तरों की समस्या से निजात मिल सकती है। रायपुर नगर निगम के अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में हालात बेहतर हैं, जरूरत होगी तो इस पर विचार किया जाएगा।

कोविशील्ड की 2 लाख डोज पहुंची रायपुर, वहीं 9600 रेमडेसिविर इंजेक्शन इंदौर एयरपोर्ट लाई गई

ज्ञात हो कि रायपुर नगर निगम अंतर्गत प्रत्येक वार्डों में सामाजिक भवन और स्कूल बनाए गए हैं। इसके साथ ही राजधानी के अंतर्गत आने वाले सरकारी स्कूलों और निजी स्कूल जो बंद हैं। इसके साथ ही शादी घर, मैरिज हाल और कालेज आदि भवनों व जगहों को भी अपने अधीन लेकर उन्हें कोविड सेंटर में तब्दील किया जा सकता है।

फिर एक बड़ा कारनामा उजागर : जिंदा महिला को डॉक्टर ने बताया था मृत : चिता पर लेटाने के बाद 

इन जगहों को कोविड सेंटर मेें तब्दील किए जाने पर कोरोना संक्रमण की जद में आने वाले मरीजोें के इलाज की व्यवस्था भी हो जाएगी और मरीजों के साथ जो परिजन संक्रमित हो रहे है वे सुरक्षित भी रहेंगे। इसके साथ ही प्राइवेट अस्पताल जो गरीबों की जेब पर डाका डाल रहे हैं उस पर भी लगाम लगेगा।

सामुदायिक भवन और स्कूल को सेंटर बनाने की मांग

पंड़ि‍त रविशंकर शुक्ल वार्ड के पार्षद एवं एमआइसी से सदस्य आकाश तिवारी ने निगम को सुझाव दिया कि आने वाला समय और विकराल या फिर बेहतर हो सकता है। इसको लेकर हमें निगम के प्रत्येक सामुदायिक भवन और स्कूलों में 15 से 20 बेड आक्सीजन युक्त बनाना चाहिए जिससे यदि भविष्य में ऐसी स्थिति निर्मित होती है तो उससे आसानी से निपटा जा सके।

123 जगहों पर लगेगी वैक्सीन

रायपुर नगर निगम के 70 वार्डों में वर्तमान में 15 लाख आबादी है। वर्तमान में 45 वर्ष की आयु से अधिक लोगों को टीका लगाया जा रहा था, क्योंकि ऐसा मानना है कि कोरोना संक्रमण से बुजुर्गों को ज्यादा खतरा है। लेकिन दूसरे चरण की बीमारी में कोरोना संक्रमण की चपेट में सभी लोग आ रहे हैं। इसलिए अब 18 वर्ष की आयु से अधिक लोगों को टीकाकरण किया जाएगा। इसको लेकर निगम प्रत्येक 70 वार्डों में 123 सेंटर बनाने का निर्णय लिया है, जहां पर लोगों को टीकाकरण किया जाएगा।

मामले बढ़ते रहे तो जरूर केंद्र बनाए जाएंग

'राजधानी में कोरोना मरीजों की दर में कमी आई है। यदि मामले बढ़ेगे तो जिन जगहों पर जगह खाली मिलेगी तो वहां पर कोविड सेंटर बनाया जाएगा।'

Powered by Blogger.