दलित समाज पर टिप्पणी को लेकर मुनमुन दत्ता पर एट्रोसिटी एक्ट का प्रकरण दर्ज

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

तारक मेहता का उल्टा चश्मा फेम बबीता उर्फ अभिनेत्री मुनमुन दत्ता के खिलाफ इंदौर के अजाक थाने में केस दर्ज कर लिया गया है। मुनमुन पर प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर मंगलवार को दलित समाज के लोगों द्वारा अजाक थाने पर धरना प्रदर्शन और नारेबाजी की गई। अभिनेत्री के खिलाफ क़क्ष्ङ दर्ज कर ली गई। दलित नेता मनोज परमार द्वारा FIR दर्ज करवाई गई है।

MP-UP के लोगों से केसों को रफा-दफा करने के नाम पर करता था फर्जी जज ठगी, माता-पिता और पत्नी को खुश रखने बोला झूठ : फिर ...

12 मई को इंदौर में दलित समाज ने क्ष्क्र से शिकायत की थी । समाज के लोगों ने अभिनेत्री के खिलाफ एट्रोसिटी एक्ट के तहत केस दर्ज करने की मांग की थी। दरअसल, सोशल मीडिया पर अभिनेत्री मुनमुन दत्ता का वीडियो वायरल हो रहा था। इसमें वह दलित समाज पर टिप्पणी करती दिख रही थी। इससे देशभ 12 मई को पुलिस को एक ज्ञापन दलित नेता मनोज परमार द्वारा दिया था जिसमें मुनमुन पर केस दर्ज करने की मांग की थी ।

चोरी छिपे शादी करने पर बड़ा एक्शन : प्रदेश में 5 मई के बाद शादी करने वालों को मैरिज सर्टिफिकेट नहीं, पढ़ ले ये काम की खबर

मुनमुन दत्ता ने बीते दिन सोशल मीडिया अकाउंट पर वीडियो पोस्ट किया था। इसमें मुनमुन मेकअप के बारे में बता रही हैं। मुनमुन ने वीडियो में कहा था, ‘मैं यू ट्यूब पर आने वाली हूं। मैं अच्‍छा दिखना चाहती हूं। मैं किसी की तरह नहीं दिखना चाहती। एक्ट्रेस ने वीडियो अपने सोशल मीडिया से हटा दिया है, लेकिन लोग लगातार सोशल मीडिया पर ये पोस्ट शेयर कर रहे हैं।

FREE FIRE GAME के लिए बुलाकर बच्चे का मर्डर : गेम के टास्क की तरह गर्दन को तेजी से घुमाया फिर हड्‌डी तोड़कर गड्ढे में दफनाया : पुलिस को किया गुमराह

बाद में वह हिस्सा हटाया और माफी भी मांगी

मुनमुन दत्ता ने पोस्ट में लिखा, ‘यह उस वीडियो के संदर्भ में है। जिसे मैंने 10 मई को पोस्‍ट किया था, जहां मेरे द्वारा इस्‍तेमाल किए गए एक शब्‍द का गलत अर्थ लगाया गया है। यह अपमान, धमकी या किसी की भावनाओं को चोट पहुंचाने के इरादे से नहीं कहा गया था। मेरी भाषा के अवरोध के कारण, मुझे सही अर्थ नहीं पता था। एक बार जब मुझे इसके बारे में बताया गया, तो मैंने तुरंत ही वीडियो में से उस भाग को निकाल दिया। मेरा हर जाति, पंथ या लिंग से हर एक व्‍यक्ति के लिए सम्‍मान है। समाज या राष्‍ट्र में उनके योगदान को मैं स्‍वीकार करती हूं। मैं ईमानादारी से हर एक व्‍यक्ति से माफी मांगना चाहती हूं, जो शब्‍द के अनजाने में हुए उपयोग से आहत हुए हैं। मुझे उसके लिए खेद है।

MP CORONA UPDATE : कोरोना से नहीं वैक्सीन से डर लगता है; इसलिए महिलाएं टीका नहीं लगवा रहीं कि बुखार आया तो खाना कौन बनाएगा?

Powered by Blogger.