REWA : एक दिन राइट साइड की तो दूसरे दिन लेफ्ट साइड की दुकानें सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक खुलेंगी : बसों में 50% यात्री और ऑटो में दो की अनुमति

रीवा को 1 जून से अनलॉक करने पर कलेक्ट्रेट स्थित मोहन सभागार में ​रविवार की सुबह 11.30 बजे क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक हुई। इसमें भौगोलिक स्थिति को देखते हुए 50% बाजार खोलने का निर्णय लिया गया। एक दिन राइट साइड की दुकानें दूसरे दिन लेफ्ट साइड की दुकानें खोलने पर बनी सहमति। यह नियम फिलहाल 7 दिन के लिए है। बसों को 50 प्रतिशत एवं ऑटो रिक्शा मे सिर्फ दो यात्रियों की अनुमति दी गई है। शादी में 20 लोग शामिल होंगे, लेकिन शादी की अनुमति दिन में ही होगी।

मंगलवार 1 जून से खुलेंगी सभी दुकानें : अनलॉक को लेकर कलेक्टर ने जारी किये नए दिशा निर्देश

कोविड प्रभारी मंत्री रामखेलावन पटेल ने आपदा प्रबंध समिति की बैठक ली। कोविड प्रभारी मंत्री ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर से राहत और तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर प्रदेश सरकार के आदेश पर विभिन्न जिलों में बैठकों का दौर चल रहा है। इसी के मददेनजर रीवा की बैठक में भी जनप्रति​निधियों, व्यापारियों, समाजिक संगठनों और अधिकारियों के सुझाव लिए गए।

1 जून से शर्तों के साथ बाजार अनलॉक : तब चेहरों पर आ गई मुस्कान, किसी को नहीं थी उम्मीद

जहां पर प्रभारी मंत्री के साथ पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ला, सांसद जनार्दन मिश्रा, सभी विधायकगण, कलेक्टर इलैया राजा टी, एसपी राकेश सिंह, अपर कलेक्टर इला तिवारी, नगर निगम कमिश्नर मृणाल मीणा, जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्वप्निल वानखेड़े, आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यगण सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।

रीवा, सीधी, सिंगरौली : आर्थिक गतिविधियों को प्रारंभ करने के लिए 1 जून से अनलॉक की तैयारी : 20 सदस्यों की मौजूदगी में होंगे शादी समारोह

कोविड प्रभारी मंत्री ने कहा है कि जिला क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में आने वाले सुझावों को कलेक्टर इलैया राजा टी राज्य सरकार को भेजेंगे है। वहां पर विचार-विमर्श कर 1 जून से मिलने वाली छूट के संबंध में चर्चा कर नया आदेश जारी होगा। इस निर्णय का पालन 31 मई को राज्य सरकार द्वारा आदेश जारी कर कलेक्टरों द्वारा कराया जाएगा। साथ ही होटल, सिनेमा घर, कोचिंग संस्थान, स्कूल, स्वीमिंग पुल पूरी तरह से बंद रहेंगे। होटलो को होम डिलवरी सुविधा दे सकते है। ऑनलाइन पढ़ाई पर राज्य सरकार फोकस कर रही है। वहीं तीसरी लहर के लिए अस्पतालों में समुचित व्यवस्था बनानी होंगी। क्योंकि बच्चों को कोरोना से बचाना ज्यादा चुनौती पूर्ण है।
Powered by Blogger.