MP : रीवा का मास्टर माइंड युवक इंदौर में करता था रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी, FB से लोगों की पोस्ट पढ़ 40 हजार में ग्राहकों को बेचें

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

  

इंदौर में बढ़ते संक्रमण के बीच रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी जोरों पर है। कालाबाजारी के तार अब गुजरात के मोरबी से जुड़ गए हैं। यहां की फैक्टरी से नकली इंजेक्शन की खेप इंदौर पहुंचाई जा रही थी। इसी गिराेह के दो सदस्यों को पुलिस ने देर रात विजय नगर क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। पूरे खेल का मास्टर माइंड रीवा का रहने वाला है, जो फैक्टरी से नकली इंजेक्शन लेकर आता था। यहां सोशल मीडिया से जरूरतमंदों को टारगेट करते थे।

UG-PG की परीक्षाएं जून व जुलाई में होंगी आयोजित, 18 लाख विद्यार्थी होंगे शामिल : पढ़िए पूरी खबर..

आरोपी सोशल मीडिया के माध्यम से जरूरतमंदों के साथ संपर्क करते और कम से कम 35 से 40 हजार में एक इंजेक्शन बेचा करते थे। पुलिस के अनुसार अकेले विजय नगर पुलिस ने ही अब तक 4 केस में 11 कालाबाजारी करने वालों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से 14 इंजेक्शन और 5 फेवी फ्लू बरामद किए हैं। इसके अलावा लसुड़िया और कनाड़िया पुलिस ने भी आधा दर्जन मामलों में 8 से ज्यादा इंजेक्शन जब्त किए हैं।

संक्रमित युवक ने शादी में खाना परोसा, दूसरे दिन बरात में डांस किया, तबीयत बिगड़ने पर ग्रामीणों ने जांच कराई, 60 में से 40 पॉजिटिव

एसपी पूर्व आशुतोष बागरी ने बताया कि पुलिस को लगातार जानकारी मिली थी कि रेमडेसिविर इंजेक्शन 35 से 40 हजार रु. में सोशल मीडिया के जरिए बेचे जा रहे हैं। गुरुवार रात को सूचना मिली थी कि 2 व्यक्ति रेमडेसिविर इंजेक्शन ब्लैक में सप्लाई करने मेदांता, भंडारी और अपोलो हाॅस्पिटल के आसपास आ रहे हैं। ये लोग रावट चौराहे पर खड़े हैं।

MP में अब कोरोना मरीजों के लिए प्राइवेट एंबुलेंस महंगा : अब प्रति किलोमीटर 23 रु. की जगह 25 रुपए हुए

सूचना के बाद पुलिस ने घेराबंदी की तो दो लोग एक्टिवा के साथ खड़े नजर आए। पुलिस को देखते ही इन्होंने दौड़ लगा दी। पुलिस ने जब इनसे रात्रि कर्फ्यू के बाद भी घूमने की वजह पूछी तो ये बहाने बनाने लगे। इस पर पुलिस ने इनके पैंट की जेब खंगाली तो 2 रेमडेसिवर इंजेक्शन इनके पास से मिले। इंजेक्शन को लेकर इनके पास कोई दस्तावेज नहीं थे।

UG और PG छात्रों के लिए बड़ी खबर : अब घर बैठे देंगे परीक्षा : जानिए कब से होंगे पेपर

पूछताछ में इन्होंने अपना नाम 27 वर्षीय आनंद झा पिता अशोक झा निवासी ग्राम गंगूली बेनीपट्टी मधुवनी बिहार, वर्तमान पता 212 मानवता नगर कनाड़िया इंदौर बताया। उसने बताया कि वह एसएनजी अस्पताल मे हाउस कीपिंग का काम करता है। उसने इंजेक्शन पकड़े गए महेश चौहान पुत्र बंसत लाल चौहान (41) निवासी कृष्णा होम्स बिल्हेरी नर्मदा काॅलोनी जबलपुर हाल पता बी -2/4 114 पार्ट 2 नैनोसिटी लसूडिया इंदौर के साथ मिलकर बेचना स्वीकार किया।

मर गई मानवता / गर्लफ्रेंड को खुश करने पांच लोगों को ढाई-ढाई लाख रुपए में बेचे टोसी के इंजेक्शन : फिर ...

एक आरोपी ने खुद को ड्यूटी डॉक्टर बताया

उसने बताया कि वह अस्पताल से हेर-फेर कर ग्राहकों अधिक रेट मे इंजेक्शन बेचा करता था। चौहान की तलाशी लेने पर उसके पास से भी 2 रेमडेसिविर इंजेक्शन मिले। उसने बताया कि वह ड्यूटी डाॅक्टर है। उसने बताया कि वह हाउस कीपिंग के सुपरवाइजर के साथ मिल कर ये इंजेक्शन ब्लैक में बेचा करता था। पुलिस ने इनके पास से 4 रेमडेसिविर, 2 मोबाइल और दोपहिया वाहन बरामद किया है।

ऐसे जुड़े थे गुजरात से तार

आरोपियोें ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने कई लोगों को 35 से 40 हजार रुपए में इंजेक्शन बेचे हैं। उन्होंने बताया कि ये इंजेक्शन धीरज और दिनेश को प्रवीण और असीम भाले उपलब्ध करवा रहे थे। असीम भाले को इंजेक्शन सुनील मिश्रा पिता रावेन्द्र मिश्रा उपलब्ध करवा रहा था। SP बागरी के अनुसार रीवा का रहने वाला सुनील मिश्रा गुजरात के मोरबी स्थित इंजेक्शन की नकली फैक्ट्री से माल लाकर इन्हें देता था। गुजरात पुलिस ने सुनील मिश्रा को हिरासत में ले लिया है।

कोरोना की टेस्टिंग में नया खुलासा : तो इसलिए लोग दोबारा हो रहे संक्रमित : जानिए क्या है कारण

बागरी ने बताया कि विजय नगर पुलिस ने अब तक 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा लसुड़िया ने दो एफआईआर में 5 आरोपियों को पकड़ा है। इसके अलावा कनाड़िया पुलिस ने भी ऐसे मामले पकड़े हैं। सभी आरोपियों पर रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी।

सोशल मीडिया पर तलाशते थे कस्टमर 

एसपी के अनुसार अभी दो तरह के मामले सामने आए हैं। एक जो गुजरात से नकली इंजेक्शन लाकर यहां बेच रहे थे। दूसरा, मरीजों की डेथ होने पर उनके इंजेक्शन बचा लिए और उसे ब्लैक में बेच दिया। अभी सोशल मीडिया पर दो तरह की खबरें चलती हैं। एक रेमडेसिविर की तत्काल जरूरत है। दूसरा किसी को रेमडेसिविर चाहिए तो संपर्क करें। जिन्हें जरूरत होती है वे कॉल करते हैं। इसके बाद वे उन लोगों को टारगेट करते हैं। जरूरत का फायदा उठाकर ये लोग कालाबाजारी कर रहे हैं। अब तक विजय नगर पुलिस 14 इंजेक्शन जब्त कर चुकी है। वहीं, लसुड़िया और कनाड़िया से मिलाकर करीब 8 इंजेक्शन जब्त किए हैं। रेमडेसिविर के अलावा टोसी को लेकर भी एक केस दर्ज हुआ है।

Powered by Blogger.