दुकानदारों ने सामान बेचने का बदला ट्रेंड : लॉकडाउन में घर से कर रहे सप्लाई, उधार के साथ ऑनलाइन से भी सस्ता मिल रहा सामान

मुरैना .शहर के दुकानदारों ने सामान बेचने का ट्रेंड बदल दिया है। लॉकडाउन की वजह से पूरा बाजार बंद है। ऐसे में दुकानदारों को लगातार नुकसान हो रहा है, इसलिए अब उन्होंने दुकान के बजाय घर से सामान की सप्लाई शुरू कर दी है।

कांग्रेस MLA की गर्लफ्रेंड सोनिया ने की खुदकुशी, वहीं तीसरी शादी करने वाली थी सोनिया, वेबसाइट के माध्यम से हुई थी मुलाकात

अहम बात यह है, दुकानदारों की इस मजबूरी को ग्राहक भी सही ठहरा रहे हैं। लोगों का कहना है, आखिर कब तक दुकानदार दुकान बंद करके बैठा रहेगा। दूसरी तरफ ग्राहकों की भी मजबूरी है। ग्राहकों का कहना है, सरकार ने भले ही लॉकडाउन लगा दिया, लेकिन सामान तो घर में चाहिए ही। कई लोग तो ऑनलाइन सामान मंगाना नहीं जानते। जो मंगा रहे हैं, उनकी शिकायत है कि ऑनलाइन सामान मंहगा आता है, इसलिए लोग दुकानदारों के घर से सामान ले आते हैं।

कांग्रेस MLA की गर्लफ्रेंड सोनिया ने की खुदकुशी, वहीं तीसरी शादी करने वाली थी सोनिया, वेबसाइट के माध्यम से हुई थी मुलाकात

फोन पर भेज देते सूची

लोगों ने बताया, लगभग सभी दुकानदारों के फोन नंबर हैं। जो भी सामान मंगाना होता है, उसकी सूची भेज देते हैं। जब दुकानदार का मैसेज आ जाता है कि सामान ले जाओ। रात में जाकर सामान ले आते हैं। दुकानदार भी ईमानदारी बरतते हुए कम नहीं तौल रहे हैं। रेट भी ज्यादा अधिक नहीं लगाते।

कोरोना वॉरियर्स ध्यान दें : कोरोना से मृत कर्मचारियों के परिवार में से एक को मिलेगी अनुकंपा नियुक्ति और 5 लाख रुपए सहायता

उधार दे देते हैं

लोगों ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से किसी की नौकरी चली गई है, तो किसी का धंधा बंद हो गया है। ऐसे में लोगों के पास पैसा भी नहीं बचा है। केशव कॉलोनी निवासी नरेन्द्र शर्मा बताते हैं कि उनकी सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी चली गई। ऐसे में पैसे की तंगी है। घर का सामान तो चाहिए ही, इसलिए परिचित के दुकानदार फिलहाल उधार सामान दे रहे हैं। अगर वे ऑनलाइन मंगाते हैं, तो नकद पैसे देने होंगे।

बेरोजगारी के चलते हाल बेहाल : घर का था 22 लाख कर्ज उधर पत्नी के आइसोलेट होने पर बढ़ा तनाव, हाथ और गले को कटर से काटा : मौत

शादी में चाहिए था सामान, कहां से आता

गोपालपुरा, निवासी हरेंद्र यादव बताते हैं कि घर में शादी थी। किराने समेत अन्य सामान की जरुरत थी। लाॅकडाउन लगा था। बाजार बंद कहां से सामान आता, इसलिए परिचित के अग्रवाल साहब की दुकान थी। उनसे सामान लिया। भले ही, शादी में चंद लोग शामिल हुए, लेकिन सामान तो लगता है।

95% लंग्स इंफेक्शन; डॉक्टर ने भी खड़े कर दिए हाथ, छोटी बहू ने बच्चों की तरह सास का ध्यान रखा तो परिवार ने आत्मविश्वास बढ़ाया : पढ़िए कोरोना को हराने वाली उषा की कहानी...

सरकार नहीं समझ रही मजबूरी

लोगों का कहना है कि लॉकडाउन लगाना सरकार की मजबूरी है, लेकिन सरकार को हमारी भी मजबूरी समझना चाहिए। थोड़े दिन का लॉकडाउन हो, तो हर कोई झेल ले, महीने भर का लॉकडाउन में कैसे गुजारा चलेगा। चोरी-छुपे तो सामान लेना ही पड़ेेगा।

मानवीयता के दुश्मन : मरीज को लगाने की जगह बाजार में ब्लैक में बेच दिए रेमडेसिविर इंजेक्शन : आठ आरोपी गिरफ्तार

रात में देते डिलीवरी

लोगों ने बताया कि दिन में तो पुलिस निकलने नहीं देती है। रात में मौका लगते ही सामान ले आते हैं। दुकानदार भी रात में गोदाम से घर में माल ले आते हैं। घर में तराजू रखे हैं, तुरंत सामान तोल कर दे देते हैं। सामान थोड़ा महंगा जरूर है लेकिन मिल जाता है। इससे काम चल रहा है।

Powered by Blogger.