MP : कोरोना वॉरियर्स ध्यान दें : कोरोना से मृत कर्मचारियों के परिवार में से एक को मिलेगी अनुकंपा नियुक्ति और 5 लाख रुपए सहायता


मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से कई फ्रंट लाईन वर्कर्स की मौत हो चुकी है। वायरस की चपेट में आकर कई डॉक्टर, नर्स और पुलिस जवान जान गंवा चुके हैं। इस बीच शिवराज सरकार दो योजनाएं लागू करने जा रही है। मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुंकपा नियुक्ति योजना और विशेष अनुग्रह योजना। यह घोषणा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को की है।

योजनाओं के तहत कोरोना से मरने वाले कर्मचारियों के परिवार में से किसी एक सदस्य को नौकरी देने और उनके आश्रितों के भरण-पोषण के लिए 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी नियमित, स्थाई कर्मचारी, कार्यभारित व आकस्मिक निधि से वेतन पाने वाले, दैनिक वेतन भोगी, संविदा, कलेक्टर दर पर कार्यरत सेवक के परिजनों के आश्रितों में से किसी एक अनुकंपा नियुक्ति उसी पद पर दी जाएगी।

15 साल की नाबालिग के साथ 4 युवकों ने किया गैंगरेप; दो सहेलियां भी लापता, आरोपियों पर 5-5 हजार रुपए का इनाम घोषित : दबाव बना रहे दो BJP नेताओं पर भी केस दर्ज

इसी तरह, सरकार कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना लागू कर रही है। इसके तहत कोरोना से जिन कर्मचारियों की मौत हुई है, उनके परिवार के पात्र दावेदार को 5 लाख रुपए की अनुगृ़ह राशि दी जाएगी। यह राशि उनके परिवार का संबल बनेगी। इसमें आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, कोटवार भी योजना में शामिल होंगे।

कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों में बड़ी संख्या पर मिल रहे ब्लैक फंगस के केस : मरीजों का अध्ययन करेगी विशेषज्ञों की समिति

उन्होने कहा कि आशा कार्यकर्ताओं के लिए अनुकंपा नियुक्ति की अलग से योजना बनाई जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्मचारी राज्य शासन के अभिन्न अंग हैं। कोविड महामारी के बीच कर्मचारी निष्ठा के साथ जान हथेली पर रखकर काम कर रहे हैं। ऐसे में दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई हैं। कई कर्मचारी काम-काम करते हमेशा के लिए बिछड़ गए। उनके परिवार की चिंता करना हमारी जिम्मेदारी है।

दो दिन का अलर्ट जारी : रीवा समेत कई हिस्सों में तेज हवा के साथ हुई बूंदाबांदी, 17 और 18 मई को लोगों से घरों से ना निकलने की सलाह

334 शिक्षकों की कोरोना से हो चुकी है मौत

प्रदेश में शिक्षा विभाग के अधिकारी, कर्मचारी व शिक्षक समेत 366 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। इसमें सबसे ज्यादा 334 शिक्षकों की संख्या है। साथ ही 19 कर्मचारी, 11 प्राचार्य और 2 अधिकारी शामिल हैं। वहीं, कोरोना संक्रमितों में भी 1809 में से 1633 शिक्षक कोरोना संक्रमित हैं। साथ ही 80 प्राचार्य, 73 कर्मचारी व 23 अधिकारी शामिल हैं।​​​​​

बड़ा फैसला : प्रिंट, इलेक्ट्रानिक व डिजिटल मीडिया कर्मियों व उनके परिवार का काेराेना के इलाज का खर्च उठाएगी सरकार

35 बिजली व 88 पुलिसकर्मियों की जान गई

जानकारी अनुसार कोरोना से 35 बिजली कर्मियों व 88 पुलिस कर्मियों की मौत हो चुकी है। राज्य मंत्रालय में ही अब तक 148 अधिकारियों व कर्मचारियों की मौत कोरोना के कारण हो चुकी है। इसके अलावा अन्य विभागों में कई अधिकारी व कर्मचारी जान गंवा चुके हैं।

Powered by Blogger.