SATNA : हत्या का खुलासा / मादक पदार्थों का सेवन कर 150 फिट गहराई में जाकर की शराब पार्टी, फिर 80 हजार रुपए पुरानी उधारी मांगी, न देने पर मार दी गोली, एक की मौत, दूसरा फरार, तीसरा आ गया गांव

डेढ़ महीने से लापता युवक की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। उचेहरा पु​लिस ने मुख्य आरोपी को दिल्ली से गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। बताया गया कि उचेहरा थाना क्षेत्र अतरवेदिया कला निवासी कोदू उर्फ रामनारायण मिश्रा (32) पिता स्व. शंकरदीन मिश्रा व मढ़ऊ निवासी भानू गौतम (22) पिता आनंद गौतम 11 अप्रैल की दोपहर एक साथ बाइक में सवार होकर घर से निकले ​थे। इसके बाद पोंड़ी चौकी के पास तीसरा साथी अंशू उर्फ नारायण दत्त उरमलिया पिता कमलभान (25) निवासी पिथौराबाद भी मिल गया।

दोस्त के साथ लापता युवक का मिला नरकंकाल; कपड़ों से हुई पहचान : बेटे को खोजते-खोजते ​पिता की कोरोना से मौत

यहां पर चार पाव शराब और 100 रुपए का गांजा लेकर तीनों एक बाइक में सवार होकर जसो थाना क्षेत्र के कोरदर नाथ मंदिर चले गए। जहां पर तीनों ने मादक पदार्थों का सेवन किया। इसके बाद शाम हुई तो तीनों दोस्त परसमनिया के पास बाबा राजा झरने के पास पहुंच गए। जहां करीब 150 फिट गहराई में जाकर फिर शराब पार्टी की। नशा चढ़ते ही आरोपी रामनारायण ने भानू से 80 हजार रुपए पुरानी उधारी मांगी। ऐसे में पीड़ित ने कुछ और समय मांगा। तब आरोपी ने कहा कि आज मैं पैसा का हिसाब किताब करके ही जाऊंगा। ऐसे में रामनारायण ने कट्टा निकालकर दो फायर किए।

रीवा- सतना की वर्दी में ठग : शहडोल जा रहे तस्करों के साथ पुलिस ने खेला बड़ा खेल, 10 लाख की डिमांड पर आधी रात 4 लाख में सौदा तय, फिर शराब भी पकड़वा दी; SP ने कराई FIR

गोली सिर में धंसते ही भानू की मौत हो गई। तब अंशू और रामनारायण ने शव को कंदराओं में छिपा दिया। इसके बाद आरोपी और सह आरोपी साथ में पोंडी आए, जहां पर रामनारायण ने अंशू को उतारकर अपनी बाइक से सतना आ गया। हत्या के बाद पुलिस के डर से वह सतना से रामपुर चौरासी, हाटी, जैतवारा, खुटहा और फिर हिरौंदी में मोबाइल से सिम निकालकर दोनों को फेंक दिया। फिर वह मझगवां के रास्ते मानिकपुर अपनी बहन के पास पहुंचा। यहां से वह दिल्ली और राजस्थान गया। करीब डेढ़ महीने तक फरारी काटता रहा, लेकिन अंशू की एक गलती ने पुलिस को हत्या का राज खोलने के लिए मजबूर कर दिया।

जमीनी विवाद को लेकर दो पक्ष आपस में भिड़े, एक पक्ष ने दूसरे पर एसिड अटैक कर की मारपीट ; 6 लोग घायल : दोनों पक्षों के खिलाफ क्रॉस FIR दर्ज

पिता की मौत में नहीं आया तो हुई पुलिस को हुआ शक

पुलिस ने बताया कि मृतक भानू गौतम थोड़ा लापरवाह था। वह कई बार घर से गोल हो चुका था। ऐसे में घर वाले भी उसके लापता होने के मैटर को सीरियस नहीं लिए। पर जब पिता की मई की शुरुआत में ही कोरोना से मौत हो गई। ऐसे में बड़ा बेटा घर नहीं पहुंचा तो गांव वालों और पुलिस को भी शक हुई। ऐसे में पुलिस हर एक बात को सीरियस ले रही थी, लेकिन दोनों आरोपी पुलिस को गुमराह करने में लगे थे।

वारदात के दिन तीनों की हुई थी बात

पुलिस ने बताया कि 11 अप्रैल को वारदात के दिन तीनों की एक साथ बात हुई थी। लेकिन मृतक फोन में बात करने के बाद मो​बाइल घर में ही छोड़कर चला गया था। जबकि मुख्य आरोपी रामनारायण मोबाइल और सिम दोनों को फेंक दिया। ऐसे में तीसरा मोबाइल सह आरोपी अंशू उरमलिया का रहा। जो पोंडी चौकी पुलिस को तीन बार गुमराह कर आराम की जिंदगी जी रहा था, लेकिन उचेहरा ​थाना प्रभारी निरीक्षक राजेन्द्र मिश्रा ने उसके तीनों बयानों की तस्दीग कराई तो कहानी मैच नहीं खा रही थी। ऐसे में आरोपी की हर एक गतिविधियों पर उचेहरा पुलिस ध्यान देने लगी तो शुरू से लेकर अंत तक के बयान में वह फंसता रहा। ऐसे में पुलिस हंसी खुशी में ही गुनाह को अंशू से कबूलबा लिया।

सतना में 23 मई से बढ़ाकर 31 मई की सुबह 6 बजे तक रहेगा कोरोना कर्फ्यू : कलेक्टर ने जारी किया आदेश

डेढ़ महीने से लापता युवक का नरकंकाल मिला !:11 अप्रैल को घर से दोस्त के साथ गया था फिर नहीं लौटा, कंकाल के कपड़ों से हुई पहचान; बेटे को खोजते-खोजते ​पिता की कोरोना से मौत

27 मई को बरामद हुआ था नर कंकाल

अंशू उर्फ नारायण दत्त उरमलिया पिता कमलभान ने पूरी दास्ता बताते हुए घटनास्थल परसमनिया के बाबा राजा झरने के पास लेकर गया। जहां पर फॉरेंसिंक अधिकारियों की मौजूदगी में मृतक भानू गौतम का नर कंकाल बरामद किया किए। फिर परिजनों की मौजूदगी में शिनाख्त भानू गौतम के कपड़ों के देखकर की गई। भाई और मां ने उसके टी-शर्ट, पैंट और चप्पल को देखकर भानू का कंकाल बताया है। फिर कंकाल का बिसरा रीवा मेडिकल कॉलेज के बायोलाजी लैब भेजकर सुरक्षित रखा दिया गया है। साथ ही डीएनए टेस्ट की पुलिस ने बात कही है।

सुबह कंकाल मिला, शाम को पुलिस मुख्य आरोपी को पकड़ ली

इस पूरे घटनाक्रम में एक बात संदिग्ध समझ में आ रही है कि सुबह पुलिस ने कंकाल को बरामद कर केस का हद तक खुलासा कर दिया। वहीं शाम तक मुख्य आरोपी राम नारायण पुलिस की गिरफ्त में आ गया। पुलिस का दावा है कि एक टीम दिल्ली गई थी। जो पोखरण से आरोपी को गिरफ्तार कर उचेहरा थाने लाई है। वहीं शुक्रवार को नर कंकाल बरामद होने के बाद पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेशकर दी है।

Powered by Blogger.