MP : काम सवारी के साथ 47 बसें 6 रूटों पर दौड़ रही, फिर भी नहीं है सोशल डिस्टेंसिंग, नहीं दिख रहा लोगों में मास्क, ऐसे तो बढ़ेगा कोरोना का संक्रमण

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

कोरोना कर्फ्यू की वजह से राजधानी में 250 सिटी बसों के पहिये 51 दिन तक थमे रहे। 1 जून को अनलॉक होने पर बसें भी चलाई जाने लगी। अब तक 47 बसें 6 रूटों पर चलाई जा चुकी हैं। इनमें औसत 40 प्रतिशत सवारी बैठ रही है। बावजूद सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं हो रहा है। कई यात्री तो मास्क पहनने से भी परहेज करते हैं। इससे कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।

45 दिनों में छोड़ा सात जन्मों का साथ : एक ही फंदे से लटके मिले पति-पत्नी शव : यह थी वजह

भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड इन बसों का संचालन करता है। बीसीएलएल ने मौखिक रूप से कंडक्टरों को बिना मास्क के यात्रियों को न बैठाने की बात कही है, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर किसी प्रकार की गाइडलाइन जारी नहीं की गई है। इस कारण यात्री एक-दूसरे से सटकर ही बैठ रहे हैं।

दो बसों में सफर कर देखे हाल

दैनिक भास्कर टीम ने दो बसों में सफर करके हाल जानें। एमपी नगर से न्यू मार्केट एवं न्यू मार्केट से एमपी नगर तक सफर किया। इस दौरान बसें तो खाली मिली लेकिन उनमें सरकार की गाइडलाइन का पालन नहीं हुआ।

सफर-1

बस नंबर-MP04PA3944

सफर- एमपी नगर से न्यू मार्केट

- 32 सीटर बस में 17 सवारी थीं। कई सीट पर यात्री एक-दूसरे से सटकर ही बैठे थे। कुछ ने मास्क भी नहीं लगाया था। पूछने पर कंडक्टर ने बताया कि यात्री से मास्क पहनने का कहते हैं। कई बार यात्री नहीं सुनते।

सफर-2

बस नंबर-MP04PA3941

सफर- न्यू मार्केट से एमपी नगर

बस में सिर्फ 12 सवारी बैठी थी। बिना मास्क लगाए कुछ यात्री भी बैठे थे। इस बारे में कंडक्टर से बात की तो उन्होंने कहा कि कई बार यात्रियों को समझाईश देते हैं, पर वे मानते नहीं। अभी सवारी कम मिल रही है। इस कारण डीजल का खर्च भी नहीं निकल पा रहा है। बस खाली होने से यात्रियों को अलग-अलग बैठने को कहते हैं।

बिना मास्क के यात्रा करने की मनाही है। इस संबंध में सभी कंडक्टरों को निर्देश दिए हैं। अभी सवारी ही कम मिल रही है। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है।

संजय सोनी, पीआरओ बीसीसीएल

Powered by Blogger.