REWA : इंदौर से UP जा रही 25 यात्रियों से भरी बस बनकुइयां ओवर ब्रिज के पास हुई दुर्घटनाग्रस्त : चालक ने सूझबूझ से बचाई यात्रियों की जान

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. MP के इंदौर से UP के प्रमुख तीर्थस्थलों में एक प्रयागराज को जारी रही यात्रियों से भरी बस बनकुइयां ओवर ब्रिज के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। बताया जा रहा है कि बस मुख्य मार्ग से काफी नीचे चली गई। हालांकि अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। घटना सोमवार भोर की बताई जा रही है।

रिश्वत दो और जमकर दारू बनाओ : लेडी एक्साइज इंस्पेक्टर के इशारे पर कांस्टेबल ने ली तीन हजार घूस, फिर कहा खूब बनाओ दारू खूब पियो

बताया जा रहा है बस में करीब 20-25 यात्री सवार थे। घटना सोमवार भोर की बताई जा रही है। ऐसें घटना के वक्त अंघेरा था जिससे बस अनियंत्रित होकर सडक से नीचे आ गई। कहा जा रहा है कि जहां दुर्घटना हुई वहां बनकुंया रोड का अंडरपास होने से बाइपास की उंचाई ज्यादा है। ऐसे में बस लुढकती हुई नीचे चली गई।

कल रीवा को मिलेगी एक और नई सौगात : बहु प्रतीक्षित नव निर्मित समान तिराहे फ्लाई ओवर का CM शिवराज करेंगे लोकार्पण

बताया जाता है कि हादसे के वक्त जब बस अनियंत्रित होकर सड़क छोड़ कर नीचे की ओर लुडकने लगी तो भी बस चालक ने हिम्मत नही छोड़ी। वह बस में सवार करीब 20-25 यात्रियों की जान बचाने को स्टेयरिंग संभाले रहा। ऐसे में बस नीची तो गई लेकिन पलटने से बच गई, अन्यथा जितने उंचाई से बस नीचे की ओर लुडकी थीं पलट जाती और कई यात्री दुर्घटना के शिकार हो जाते।

ताबड़तोड़ कार्यवाही जारी : शातिर चर्चित बदमाश लकी सिंह उर्फ मेन्टल कोरेक्स की खेप के साथ गिरफ्तार

बस हादसे की जानकारी होते ही चोरहटा थाने की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची और एंबुलेंस मंगाकर घायलों को अस्पताल भेजने की व्यवस्था की। एसआई महेंद्र सिंह के अनुसार बस इंदौर से प्रयागराज जा रही थी। उन्होंने बताया कि बस में घायल यात्रियों को इलाज के लिए संजय गाधी अस्पताल भेज दिया गया हैं। बताया जाता है कि एक यात्री गंभीर रूप से घायल है जिसे एसजीएमएच में भर्ती किया गया है। लेकिन अन्य को प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी कर दी गई।

दूसरे का आधार नंबर लिंक कर धोखाधड़ी : बैंक अधिकारियों की साठगांठ के कारण महिला को गंवानी पड़ गई 21 लाख की जमापूंजी

क्षेत्रीय नागरिकों का कहना है कि रीवा शहर के बाहरी इलाके में बने चोरहटा से रतहरा तक के बाइपास की चैड़ाई काफी कम है। वहीं बाइपास पर वाहनों का दबाव ज्यादा है। चैड़ाई कम होने से आए दिन बाइपास पर हादसे हो रहे हैं। बेला के पास दो नेशनल हाइवे मिलते है। सभी वाहनो का आवागमन इसी बाइपास से है। ऐसे में वाहनो का दबाव बढ़ा हुआ है। काफी समय से बाइपास चैडीकरण की आवश्यकता महशूस की जा रही है।

Powered by Blogger.