MP : सरकार और जूडा भी आमने-सामने / सरकार को दर्द समझाने के लिए जूनियर डॉक्टरों ने गाया.. 'सारी उम्र हम मर-मर कर जी लिए'

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

इंदौर। वैसे तो फिल्म 'थ्री इडियट्स' का गाना 'सारी उम्र हम मर-मर कर जी लिए' फिल्म में यह गाना एक पात्र जॉय लोबो पर फिल्माया गया था। इसमें वह अपने प्रिंसिपल से परेशान होकर यह गाना गाता है, लेकिन इस बार मामला प्रिंसिपल का नहीं, बल्कि सरकार से जुड़ा है। गाने वाले हैं इंदौर के जूनियर डॉक्टर्स। जूनियर डॉक्टर लगातार आंदोलन कर रहे हैं। शुक्रवार देर रात एमवाय अस्पताल के सामने जूनियर डॉक्टरों ने फिल्मी अंदाज में सरकार को जगाने की कोशिश की।

जूडा हड़ताल : जूनियर डॉक्टर के बाद 100 इंटर्नशिप डॉक्टरों ने भी दिया इस्तीफा

प्रदेश सरकार और जूडा के विवाद की वजह से पांचवें दिन भी हड़ताल का निर्णय नहीं निकल पाया। अब सरकार और जूडा भी आमने-सामने हो गए। सरकार हर मांग मानने से पहले हड़ताल खत्म करने की बात कह रही है। वहीं, जूडा लिखित में आश्वासन से पहले हड़ताल खत्म नहीं करने पर अड़े हैं। उधर, एमवायएच में पांच दिनों से जारी हड़ताल की वजह से ओपीडी, इमरजेंसी सेवाएं प्रभावित हुईं।

SDM ने महिला फूड इंस्पेक्टर को भेजा अश्लील मैसेज : शाम को बोले- कमरे पर आ रहा हूं : फिर ..

शुक्रवार को ओपीडी में कुछ ही सीनियर डॉक्टर पहुंचे। उन्होंने मरीजों को देखा। दिन-रात वार्डों में मरीजों की देखभाल करने वाले जूडा नहीं होने से सीनियर डॉक्टर वार्डों मेंं पहुंचे जरूर, लेकिन वे ज्यादा वक्त वहां नहीं रहे। औपचारिकता करके रवाना हो गए। व्यवस्था संभालने के लिए आसपास के जिलों से जिन डॉक्टरों को बुलाया गया, वे अलग-अलग वार्डों में मौजूद तो हैं, लेकिन उनकी संख्या जूडा की अपेक्षा कम है। ऐसे में मरीज इलाज के अभाव में अस्पताल से पलायन कर रहे हैं। इसका सबसे ज्यादा असर ब्लैक फंगस के भर्ती मरीजों के हैं।

Powered by Blogger.