MP : 28 जून से श्रद्धालुओं के लिए फिर खुलेगा महाकाल मंदिर, बिना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के पंडे, पुजारी और कर्मचारियों को भी नहीं मिलेगा प्रवेश

उज्जैन में कोरोना के मामले कम होने के बाद महाकाल मंदिर 28 जून से श्रद्धालुओं के लिए फिर से खोलने का निर्णय लिया गया है। वायरस से सुरक्षा के लिए प्रशासन ने यहां के पुजारी, पंडे और कर्मचारियों के लिए भी वैक्सीनेशन अनिवार्य कर दिया है। अब इन्हें भी मंदिर में प्रवेश के समय वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना होगा। बिना सर्टिफिकेट के पंडे, पुजारी और कर्मचारियों को भी एंट्री नहीं मिलेगी। उज्जैन के कलेक्टर आशीष सिंह ने सभी कर्मचारियों को टीका लगवाने का आदेश दिया गया है। मंदिर में 650 से ज्यादा कर्मचारी हैं।

एक श्रद्धालु दानदाता के गर्भ गृह की देहरी तक पहुंचकर दर्शन करने के मामले में मंदिर प्रशासन ने 2 कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी

इससे पहले शुक्रवार को आपदा प्रबंधन की बैठक में निर्णय लिया गया था कि मंदिर 28 जून को खोला जाएगा। मंदिर में प्रवेश के लिए श्रद्धालुओं को 48 घंटे पहले की ङच्र्-घ्क्ङ रिपोर्ट या वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य होगा। कलेक्टर ने कहा है कि मंदिर में आने वाले सभी पुजारी, पुरोहित, प्रतिनिधि, सुरक्षा कर्मी, सफाईकर्मी समेत समिति के करीब 325 कर्मचारियों को 28 जून तक वैक्सीनेशन के बाद ही प्रवेश मिलेगा।

महाकाल मंदिर में 2100 साल पुराने मंदिर के अवशेष : विक्रमादित्य काल की दिखाई दी दीवार

कई पुजारियों-कर्मचारियों ने नहीं लगवाया टीका

कलेक्टर आशीष सिंह का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर में कई पंडे-पुजारी समेत कर्मचारी भी कोरोना से संक्रमित हुए थे। ऐसे में मंदिर में आने वाले लाखों श्रद्धालु और पुजारियों को भी टीका लगवाना जरूरी होगा। ऐसे में कई ऐसे पुजारी और कर्मचारी हैं, जिन्होंने कोरोना का टीका नहीं लगवाया है।

मां की मौत के बाद धरने पर बैठी बेटियां, 1 लाख रुपए में खरीदे थे 6 रेमडेसिविर इंजेक्शन : पहले पॉजिटिव बताया, मौत के बाद कहा निगेटिव, रोते हुए बेटी बोली- इतने महंगे इंजेक्शन का क्या किया, बेच दिए क्या...

बता दें, 48 पुजारी-पुरोहित, परिसर में स्थित 44 अन्य मंदिरों के पुजारी, 326 मंदिर समिति के कर्मचारी, 120 सुरक्षाकर्मी, 100 सफाईकर्मी और अन्य कर्मचारी सुबह 4 बजे से रात 11 बजे तक मंदिर में तैनात रहते हैं।

Powered by Blogger.