MP : सोने के सिक्के और बिस्किट बेचने का झांसा देकर लोगों को ठगने वाले गिरोह के 5 सदस्य गिरफ्तार

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

सोने के सिक्के और बिस्किट बेचने का झांसा देकर लोगों को ठगने वाले गिरोह के 5 सदस्यों को सिटी पुलिस ने गिरफ्तार किया। इनके पास से पीतल का घड़ा उसमें सोने की तरह पुराने जमाने की गिन्नी, बिस्किट आदि बरामद किए गए हैं। थाना प्रभारी सुमी देसाई ने बताया कि सूचना मिली थी कुछ लोग गड़ा धन बेचने का प्रयास कर रहे हैं। उनके पास सोने की सामग्री है। इस सूचना के बाद देहात थाना प्रभारी महेंद्र साहब, उप निरीक्षक अनुज ठाकुर, देवेंद्र पाठक, कमलेश सोनकर सहित आरक्षकों को भेजा गया। जांच पड़ताल में एक ओमनी कार में पांच व्यक्ति संदिग्ध हालत में घूमते पाए गए। पूछताछ से पता चला कि यह जबलपुर के रहने वाले हैं। इनमें 46 वर्षीय जुगल किशोर, 23 वर्षीय संजय चक्रवर्ती नोनीटपारा, 21 वर्षीय रफीक शाह, 43 वर्षीय मुवीन शाह व 26 वर्षीय दानिश खान कटारा मोहल्ला जबलपुर निवासी हैं। इनकी तलाशी लेने पर पीतल के एक कलश में सोने जैसी गिन्नी 15 बिस्किट रखे पाए गए।

पहली बार निजी हाथों में सौंपने का फैसला : बिजली कंपनी अब प्राइवेट तरीके से बिलों की करेगी वसूली, प्रति बिल 10 रुपए तक कमीशन

इस तरह से ठगा करते थे

एसडीओपी भारत भूषण शर्मा ने बताया कि पूछताछ से पता चला है कि यह लोगों को गड़े धन के नाम पर बेवकूफ बनाते थे। जैसे ही इनके जाल में लोग फंसते थे उनको बताते थे कि उनके मकान खेत या प्लाट में गड़ा धन है। पूजा पाठ के बाद उसे निकाला जा सकता था। जैसे ही लोग झांसे में आते थे उनके साथ ही मौका देख कर रात को पीतल का कलश जमीन में गाड़ देते थे। जैसे पूजा पाठ के बाद कलश निकलता था बताते थे कि सोना पीतल बन गया है।

पेगासस प्रोजेक्ट के लिए गृहमंत्री इस्तीफा दें, पेगासस एक हथियार, इसे संवैधानिक संस्थाओं के खिलाफ उपयोग किया गया : PM मोदी की न्यायिक जांच होनी चाहिए : राहुल गांधी :

ठगी के लिए ऐसे करते थे तांत्रिक क्रिया

नकली गिन्नी और बिस्किट को वापस सोना बनाने के लिए तांत्रिक क्रिया के नाम पर लोगों से मोटी रकम वसूल कर घड़े को बंद कमरे या पेटी में 7 दिन रखने के बाद उसे 24 घंटे बाद खोलने की बात कह कर रफू चक्कर हो जाते थे। हजारों रुपए देकर लोग हाथ मलते रह जाते थे। पुलिस ने उनके कब्जे से ओमनी वैन क्रमांक एमपी 20 बीए 4954 जबकि है। उनके खिलाफ 420, 34 के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया गया है।

Powered by Blogger.