MP : अगले 3 दिन तक ग्वालियर और रीवा संभागों में रहेगी तेज बारिश : इंदौर और भोपाल में बारिश का दौर जारी

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

बंगाल की खाड़ी में बने लो प्रेशर के कारण अगले 24 घंटे तक इंदौर और भोपाल में बारिश का दौर जारी रहेगा, लेकिन इसके बाद हल्की बारिश होगी। हालांकि अगले 3 दिन तक ग्वालियर और रीवा संभागों में तेज बारिश रहेगी। मौसम वैज्ञानिक जेडी मिश्रा ने बताया कि प्रदेश के अन्य इलाकों में मानसून थोड़ा कमजोर होगा, लेकिन 27 जुलाई को बन रहे सिस्टम के कारण पानी गिरता रहेगा।

प्रदेश में खुल सकेंगे स्कूल : 11वीं-12वीं 26 जुलाई और 9वीं-10वीं के स्कूल 5 अगस्त खुलेंगे : आदेश जारी

मध्यप्रदेश में इस तरह सक्रिय मानसून

पूर्वी मध्यप्रदेश में मानसून पूरी तरह से सक्रिय है। इसके कारण अच्छी बारिश हो रही है और आगे भी जारी रहेगी। इसके साथ ही मध्य और पश्चिमी मध्यप्रदेश में हल्की बारिश होती रहेगी। भोपाल के कलर डॉप्लर के अनुमान के अनुसार मौसम विभाग ने यह अनुमान लगाया है। हालांकि यह स्थिति 25 और 26 को भी इसी तरह बने रहने की अनुमान है।

प्रेमी-प्रेमिका ने खुदकुशी : PSC की तैयारी कर रही थी युवती, एक साल से था अफेयर; GF की मौत की ख़बर सुनते ही युवक भी ट्रेन के सामने कूदा

यह सिस्टम बना हुआ है

वर्तमान में लो प्रेशर एरिया और अधिक प्रभावशाली होकर ओडिशा-बंगाल तट के पास बना हुआ है। यह समुद्र तल से करीब 5.8 किमी की ऊंचाई तक फैले चक्रवातीय गतिविधि सक्रिय है। मानसून ट्रफ अनूपगढ़, सवाई माधवपुर, झांसी, रीवा, अंबिकापुर, चायबासा से होते हुए बंगाल की खाड़ी में निम्न दाब क्षेत्र से आगे पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक फैली है। एक Off-shore Trough महाराष्ट्र तट से उत्तरी केरल तट के समांतर सक्रिय है। साथ ही, दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान में चक्रवातीय गतिविधियां सक्रिय हैं।

पहली बार निजी हाथों में सौंपने का फैसला : बिजली कंपनी अब प्राइवेट तरीके से बिलों की करेगी वसूली, प्रति बिल 10 रुपए तक कमीशन

अब सामान्य होने लगा कोटा

मध्यप्रदेश में करीब 22 दिन बाद सक्रिय हुए मानसून के कारण अब बारिश का कोटा सामान्य होने लगा है। हालांकि यह अब भी यह सामान्य से 16% कम है, लेकिन मौसम विभाग इसे सामान्य बारिश मानता है। मध्यप्रदेश में 23 जुलाई तक 345 मिमी पानी गिर जाना था, लेकिन 290 मिमी पानी गिरा है। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में अगर मानसूनी गतिविधियां इसी तरह सक्रिय रहीं, तो बारिश का कोटा सामान्य से ज्यादा भी हो सकता है।

Powered by Blogger.