REWA : ऑपरेशन मुस्कान : रीवा सायबर सेल ने 7 लाख के 44 नग गुमे मोबाइलों को खोजकर आवेदकों को किया वापस

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

मध्यप्रदेश की रीवा पुलिस ने पहल करते हुए 7 लाख के 44 नग गुमे मोबाइलों को खोजकर आवेदकों को सौंप दिया है। शुक्रवार की दोपहर पुलिस कंट्रोल रूम में एसपी राकेश सिंह, एएसपी शिवकुमार वर्मा और साइबर सेल निरीक्षक वीरेन्द्र पटेल की मौजूदगी में खुलासा किया गया। इसके बाद आवेदकों को बुलाकर क्रमश: मोबाइल सौंप दिए गए है। हालांकि मोबाइल उन्हीं लोगों को दिया गया है, जिनके पास थाने में दिया गया शिकायती आवेदन, मोबाइल का बिल अथवा ईएमआई नंबर आदि मौजूद थे।

हबीबगंज और रीवा के बीच राखी स्पेशल ट्रेन आज से शुरू : सिर्फ कन्फर्म टिकटधारी यात्रियों को मिलेगी अनुमति

एसपी राकेश सिंह ने बताया कि रीवा जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में मोबाइल गुमने संबंधी लगातार शिकायतें आ रही थी। क्योंकि किसी भी आदमी का अगर अचानक मोबाइल खो जाता है तो बहुत सारी व्यक्तिगत जानकारियां सार्वजनिक होने का खतरा रहता है। साथ ही मोबाइल के अंदर मौजूद दस्तावेजों को दोबारा खोजना चुनौती पूर्ण रहता है।

एक दिन के प्रवास पर रीवा आए ऊर्जा मंत्री : सुरक्षाकर्मियों और पुलिस जवानों की NSUI कार्यकर्ताओं से झूमाझटकी : काले झंडे दिखाकर जमकर किया विरोध

ज्यादातर लोग अपनी फेसबुक आईडी और जी-मेल अकाउंट इत्यादि लॉगिन कर के रखते है। ऐसे में जब अचानक मोबाइल गुम जाता है तो आईडी से भी छेड़छाड़ का खतरा उत्पन्न हो जाता है। कई बार शातिर लोग दूसरे की आईडी का मिस यूज करते है। जिससे आम आदमी फंस जाता है।

अवैध खनिज का परिवहन का मामला : पुलिस के दो जवानों को कुचल देने की धमकी : वायरल ऑडियो में आरोपी ने दी पुलिस को चुनौती

मोबाइल खोजने चलाया विशेष अभियान

सायबर टीम की मानें तो मोबाइल गुमने संबंधी शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए एसपी के निर्देश में मोबाइल खोजने विशेष अभियान चलाया गया। टीम में सायबर सेल प्रभारी निरीक्षक वीरेन्द्र सिंह पटेल, उपनिरीक्षक गौरव मिश्रा, आरक्षक मानेन्द्र शर्मा, कृष्णकान्त नामदेव, सुभाष चन्द्र, वरूणेन्द्र सिंह शामिल किया। इसके बाद सायबर टीम मोबाइलों को पता करते हुए 44 नग मोबाइल बरामद किए हैं। जिनकी अनुमानित कीमत करीब 7 लाख रुपए है।

Powered by Blogger.