ब्राह्मण समाज के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी का आरोप : भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार को रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

भोपाल। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार बघेल को रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। उन पर ब्राह्मण समाज के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी का आरोप है। इधर, भोपाल के एमपी नगर थाने में भी नंदकुमार बघेल के खिलाफ ब्राह्मण समाज ने एफआइआर दर्ज करने की मांग की है। राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपा गया है।

घर बुलाकर नाबालिग बालक के साथ अप्राकृतिक कृत्य के मामले में कोर्ट ने युवक को सुनाई आजीवन कारावास की सजा

भोपाल में भी छत्तीसगढ़ के सीएम के पिता नंदकुमार बघेल की उस टिप्पणी का विरोध हो रहा है। इस मामले में अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज का कहना है कि सीएम भूपेश बघेल के पिता का बयान देशद्रोह की श्रेणी में आता है, इन पर तत्काल FIR होना चाहिए। ब्राह्मण समाज ने भूपेश बघेल से इस्तीफे की भी मांग की है। ब्राह्मण समाज ने राजधानी के एमपी नगर थाने में आवेदन देकर नंदकुमार बघेल के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने की मांग की है। समाज के लोगों ने राज्यपाल मंगूभाई पटेल के नाम ज्ञापन भी सौंपा है।

राजधानी VIP रोड पर चलती बाइक पर टंकी पर युवक से चिपकी बैठी युवती, वायरल वीडियो बाद हरकत में आई पुलिस : युवक की तलाश शुरू

बघेल ने क्या बोला था

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के पिता नंद कुमार बघेल 30 अगस्त को उत्तर प्रदेश गए थे। उन्होंने लखनऊ में शिक्षा भर्ती में गलत आरक्षण प्रक्रिया अपनाने पर धरना दे रहे युवाओं के बीच पहुंचकर उनका समर्थन किया था। मीडिया से भी बात करते हुए ब्राह्मणों को विदेशी बताया था। और कह दिया था कि अब वोट हमारा राज, तुम्हारा नहीं चलेगा। हम आंदोलन करेंगे। ब्राह्मणों को गंगा से वोल्गा भेजेंगे। यह लोग विदेशी हैं और जिस तरह अंग्रेज आए और चले गए, उसी प्रकार यह ब्राह्मण सुधर जाएं या फिर गंगा से वोल्गा जाने के लिए तैयार रहें। इस टिप्पणी के बाद सर्व ब्राह्मण समाज ने छत्तीसगढ़ में भी थाने में शिकायत की है। उनके खिलाफ आइपीसी की धारा 505 और 153 ए के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।

नीमच के बाद अब खरगोन में छात्रा की हत्या : सिरफिरे आशिक ने एक तरफा प्यार में छात्रा पर किया कुल्हाड़ी से हमला : मौत

धारा 153-ए और 505-एक (बी) क्या है

आईपीसी की धारा 153 और 153 ए के मुताबिक कोई व्यक्ति लिखित या मौखिक रूप से बयान देता है जिससे साम्प्रदायिक दंगा अथवा तनाव या समुदायों में शत्रुता बढ़ती है, तो उसे गिरफ्तार किया जा सकता है। धारा 404 के अंतर्गत भड़काऊ बयान जिससे सामाजिक अव्यवस्था फैल सकती है, तीन साल की जेल हो सकती है।

Powered by Blogger.