MP : देश में पहली बार अब सरकारी स्कूलों के बच्चे डाइनिंग टेबल पर बैठकर खाएंगे खाना, टाट पट्टी की व्यवस्था होगी खत्म

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब बच्चे जमीन पर बैठकर भोजन नहीं करेंगे। इन स्कूलों में डाइनिंग टेबल लगाए जाएंगे। इसकी शुरुआत गुना से कर दी गई है। गुना में 80 पंचायतों के 100 स्कूलों में डाइनिंग हॉल तैयार कराए जा रहे हैं। गुना के 20 स्कूलों में डाइनिंग टेबल तैयार कर लिए गए हैं। बुधवार को इसका लोकार्पण बेरखेड़ी में पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने किया।

इस गणेश मंदिर में अब तक 1 लाख से अधिक लोगों ने लगाई अर्जियां, 60 हजार लोगों की अर्जियां हो चुकीं पूरी

पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने बताया कि पूरे प्रदेश में यह सिस्टम लागू करने की योजना बनाई जा रही है। अभी तक टाट-पट्टी या जमीन पर बैठकर बच्चे भोजन करते थे। जिस दिन मंत्री पद का चार्ज लिया था, उसी दिन से इसे बदलने की सोच ली थी कि ऐसी व्यवस्था लागू की जाए जिसमें बच्चों को टाट पट्टी पर बैठना न पड़े। डाइनिंग टेबल का निर्माण कराया जा रहा है। मनरेगा के तहत यह कार्य स्कूलों में कराए जा रहे हैं।

शादी के 30 साल साथ रहने के बाद भी 55 साल की पत्नी पर शक : किसी से बातचीत और आने-जाने पर करता था पाबंदी : FIR दर्ज

बमोरी के सात हजार सहरिया-आदिवासी परिवारों के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे अब जमीन पर बैठकर भोजन नहीं करेंगे। साथ ही थाली लेकर स्कूल में रोटी और सब्जी के लिए लाइन में भी नहीं लगना पड़ेगा। 80 पंचायतों के स्कूलों में 100 डायनिंग हॉल तैयार किए जा रहे हैं। अभी हाल में बेरखेड़ी, किशनपुरा, सुहाया, बनेह, लोडेरा और कुशेपुर सहित 20 पंचायतों के स्कूलों में डायनिंग टेबिल सहरिया बच्चों के लिए तैयार कर दी गई हैं। अब स्कूलों में इन सहरिया बच्चों की जीवनशैली में सुधार आएगा। साथ ही वह अपने समाज को भी बेहतर जीवनशैली जीने को लेकर प्रेरित करते दिखाई देंगे।

अंधविश्वास की तस्वीर : महिलाओं ने टोटका करने के लिए अपने ही घरों की बच्चियों को बिना कपड़ों के घुमाया

जिले में पहली बार सहरिया-आदिवासी छात्रों को पढ़ाई के साथ-साथ स्कूलों में उनकी दैनिक दिनचर्या व भोजन करने के तरीके में सुधार को लेकर पहल की जा रही है। इसका आगाज बमोरी के 80 पंचायतों से किया जा रहा है। अभी हाल में 20 सरकारी स्कूलों में सात लाख रुपये की लागत से डायनिंग हॉल में टेबिल बनाकर तैयार कर दी गई हैं। अब यह बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ भोजन करने के तरीके को भी सीखेंगे। पहले स्कूलों में बच्चे थाली में भोजन लेकर खुले में जमीन पर बैठकर खाना खाते थे, लेकिन अब स्कूल परिसर में बने डाइनिंग हॉल में भोजन करते नजर आएंगे।

35 लाख में 100 डाइनिंग हॉल बनकर होंगे तैयार

जिला पंचायत सीईओ निलेश पारीख ने बताया कि बमोरी जनपद की 80 पंचायतों के 100 स्कूल भवनों में डाइनिंग हॉल बनकर तैयार होंगे। डाइनिंग हॉल बनाने पर जनपद पंचायत का 35 लाख रुपये का खर्चा होगा। हालांकि, जिला पंचायत डाइनिंग हॉल के निर्माण को लेकर मॉनीटरिंग करता नजर आ रहा है। अफसरों का कहना है कि स्कूलों में पढ़ने वाले सैकड़ों सहरिया परिवारों के छात्रों के जीवन में बदलाव होगा।

पूरे प्रदेश में लागू होगी योजना

पंचायत मंत्री सिसोदिया ने बताया कि पूरे प्रदेश की पंचायतों में यह योजना लागू की जाएगी। हमारे बच्चे अब टाट-पट्टी पर बैठकर खाना नहीं खाएंगे, बल्कि अच्छे तरीके से डाइनिंग टेबल पर बैठकर खाना खाएंगे। जहां भी टाट-पट्टी सिस्टम है, उसे खत्म करके यह डाइनिंग टेबल वाली व्यवस्था लागू की जाएगी।

Powered by Blogger.