REWA : देवांशु मिश्रा हत्याकांड : चार माह पहले हुई थी शादी, चाहने वालों में दौड़ी शोक की लहर, घर में पसरा मातम, माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल ....

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

        

( ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा। एक दिन पहले इंदौर शहर में आधी रात रियल स्टेट सेल्स डायरेक्टर देवांशू मिश्रा की हत्या के बाद परिजन शुक्रवार की सुबह 10 बजे शव लेकर रीवा पहुंचे। जहां बंदरिया मुक्तिधाम में विधि विधान से दोपहर 2 बजे अंतिम संस्कार किया गया। छोटे भाई हिमांशु मिश्रा ने मुखाग्नि दी। वहीं घर में मातम पसरा हुआ है।

रीवा के युवक की इंदौर में हत्या : तीन आरोपी किन्नर हुए गिरिफ्तार, सोशल मीडिया पर नामी लोगों से दोस्ती, पब और होटलों में जाने की शौकीन किन्नर : देखिये तस्वीरें

माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है। चारों तरफ चीखें सुनाई दे रहीं है। हादसे के बारे में परिवार को कुछ नहीं मालूम है। वह पुलिस की बताई हुई कहानी को ही जानते है। हालांकि इंदौर पुलिस ने हर संभव मदद का आश्वासन देते हुए आरोपियों के गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया है।

                                              शादी के दिन देवांशू मिश्रा और प्रेरणा पाण्डेय

मृतक देवांशू मिश्रा के चाचा अधिवक्ता जय शंकर मिश्रा ने मीडिया से बातचीत में बताया कि दो दिन पहले तक घर में सबकुछ ठीक ठीक था। बेटा हमारी बहू को ले जाने के लिए नया मकान रेंट पर ले लिया था। साथ ही बहू ने भोपाल में पैकिंग भी शुरू कर दी थी, लेकिन आज ईश्वर ने ऐसा जख्म दिया है। जिससे आज दो परिवार पूरी तरह तबाह हो चुके है। वहीं माता पिता ने पढ़ा लिखा कर अच्छा इंसान बनाने की कोशिश की, लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था।

लखनऊ से किया था एमबीए

मृतक देवांशू मिश्रा (26) दो भाईयों में सबसे बड़ा था। उसने लखनऊ से एमबीए करने के बाद इंदौर शिफ्ट हो गया था। जिसने हाल ही में रियल स्टेट सेल्स डायरेक्टर के पद पर ज्वानिंग कर ली थी। जबकि छोटा भाई हिमांशु मिश्रा (22) बीकाम ऑनर्स फाइनल ईयर रेनेसां कॉलेज इंदौर से कर रहा था। कोरोना की दूसरी लहर के बाद से रीवा में रह रहा था। जिसको भी कुछ दिनों बाद इंदौर जाना था।

चार माह पहले भोपाल में हुई थी शादी

बताया कि चार माह पहले जुलाई 2021 में देवांशू मिश्रा ने प्रेरणा पांडेय से शादी की थी। प्रेरणा पांडेय का परिवार मूल रूप से ग्वालियर का रहने वाले है। प्रेरणा भोपाल से हायर एजुकेशन कर डीपीएस स्कूल में टीचर थी, लेकिन इंदौर शिफ्ट होने के लिए रिजाइन दे दिया था, जिसका नोटिस पीरियड चल रहा था। कुछ दिन बाद इंदौर में जाकर शिफ्ट हो जाना था, पर उसके पहले ही देवांशू की चाकूओं से गोदकर हत्या कर दी गई।

ऐसी है पारिवारिक पृष्ठभूमि

मृतक देवांशू के पिता रविशंकर मिश्रा पेशे से सिविल इंजीनियर है, जो रीवा के मशहूर बिल्डर राजेंद्र शर्मा के ममरे भाई है। उनका पैतृक गांव गंगेव जनपद पंचायत का बेला गांव है। जो वर्षों से शहर के अरुण नगर में मकान बनाकर रहते है। जवान बेटे की हत्या के बाद रीवा शहर में चाहने वालों में शोक की लहर दौड़ गई है। भारी संख्या में लोग बंदरिया मुक्ति धाम में अंतिम संस्कार कराने पहुंचे थे।

Powered by Blogger.