ऑनलाइन ठगों के निशाने पर MP के VIP : अश्लील वीडियो कॉल करके करते हैं फ्रॉड, सीनियर नेताओं से लेकर अफसरों तक फंसे

अश्लील वीडियो कॉल कर ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों के निशाने पर मध्यप्रदेश के ज्क्ष्घ् आ गए हैं। भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के पहले भाजपा के सीनियर लीडर से लेकर बड़े अफसर तक को इस तरह के वीडियो कॉल आ चुके हैं। वीडियो कॉल पर न्यूड लड़की से बात कराकर स्क्रीन शॉट और वीडियो रिकॉर्डिंग कर ली जाती है। पहले पीड़ित को फोटो और वीडियो भेजे जाते हैं। इसके बाद फोन कर सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल किया जाता है। 

मामा से पैसे ऐंठकर शेयर मार्केट पर भांजे ने लगाएं 21 लाख रुपए : पिता की हत्या को लेकर संदेह..

ऐसे किया जाता है ब्लैकमेल

साइबर एक्सपर्ट के अनुसार साइबर अपराधी पहले अज्ञात नंबर से वीडियो कॉल करते हैं। जिस नंबर से कॉल आता है, उसे अटैंड करने पर सामने न्यूड महिला दिखाई देती है। कॉल रिसीव करते ही साइबर अपराधी मोबाइल फोन का स्क्रीन शॉट्स ले लेते हैं या उसका वीडियो बना लेते हैं। जिससे कॉल करने वाले और कॉल रिसीव करने वाले की तस्वीरें कैद हो जाती हैं। इसके बाद शुरू होता है ब्लैकमेलिंग का सिलसिला। अपराधी धमकी देता है कि अगर पीड़ित ने उसे पैसे नहीं दिए, तो वह उसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल कर देगा।

MP के इश्क मिजाज अफसर : IAS अफसर, जहां रहे वही इश्क लड़ाया; पढ़िए 10 स्लाइड में अफेयर विवाद और हत्या की स्टोरी..

जनवरी में राजस्थान में पकड़ाया था गैंग

दिल्ली पुलिस ने इसी साल जनवरी में राजस्थान से सेक्सटॉर्शन से जुड़ा गैंग पकड़ा था। इस गैंग में कोई लड़की नहीं थी। आरोपी सोशल साइट्स पर लड़कियों के नाम से अकाउंट बनाते थे। इसके बाद शिकार को वॉटसऐप पर वीडियो कॉल कर लड़की का प्री-रिकॉर्डेड वीडियो चला देते। जैसे ही सामने वाला शख्स वीडियो कॉल पर जुड़ता तो उसे अश्लील वीडियो (प्री-रिकॉर्डेड) दिखा देते। वे सामने वाले शख्स को उत्तेजित कर उसे भी ऐसा ही करने के लिए उकसाते थे। सामने वाला यही समझता था कि वह किसी लड़की से वीडियो कॉलिंग कर रहा है और उनके जाल में फंस जाता था। इसके बाद गिरोह के लोग वीडियो वायरल करने की धमकी देकर पीड़ित को ब्लैकमेल करने लगते थे।

सेक्सटॉर्शन से ऐसे बचा जा सकता है

किसी अनजान व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट न करें।

अगर आप किसी को नहीं जानते हैं तो उसके साथ वीडियो कॉल के माध्यम से न जुड़ें।

कभी भी ब्लैकमेलिंग करने वाले व्यक्ति को किसी तरह का भुगतान न करें.

ऐसे किसी भी मामले में तुरंत ही साइबर पुलिस के समक्ष अपनी शिकायत दर्ज करवाएं।

इन नेताओं को फंसाने की कोशिश की गई

केस - 1

15 दिसंबर को प्रदेश भाजपा के सीनियर लीडर हरिहर शर्मा को वॉट्सऐप पर दो ज्क्ष्क़्कग्र् कॉल आए। पहला कॉल उन्होंने रिसीव नहीं किया, तो मैसेज मिला। जिसमें लिखा था- आपकी फेसबुक फ्रेंड हूं। दूसरा कॉल रिसीव करते ही लड़की ने टॉपलेस होकर बात करने की कोशिश की। उन्होंने तुरंत कॉल कट की और क़क्ष्ङ कराई। हरिहर शर्मा जिला केंद्रीय सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष और लोकतंत्र सेनानी संघ के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रहे हैं।

केस-2

अगस्त 2021 में ग्वालियर में राजस्व विभाग के अफसर रविनंदन तिवारी को हनी ट्रैप के जरिए ब्लैकमेल करने का मामला सामने आया था। यहां आरोपी युवती ने अफसर को वीडियो कॉल किया। इसके बाद खुद के कपड़े उतारकर कॉल रिकॉर्ड कर लिया। बाद में यही वीडियो वायरल करने की धमकी देकर 50 हजार रुपए मांगे। इस पर अफसर ने रुपए देने से मना कर दिया। घटना का जिक्र रात को ही अफसर ने फेसबुक पर किया।

केस-3

ग्वालियर के लखनोती खुर्द निवासी हरेन्द्र सिंह गुर्जर शहर जिला कांग्रेस सेवादल कमेटी के जिलाध्यक्ष हैं। उन्होंने करीब 5 महीने पहले क्राइम ब्रांच थाने में शिकायत की थी। उन्होंने बताया कि अनजान नंबर से कॉल कर अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल किया जा रहा है। उन्हें 27 अगस्त की रात 11 बजे उनके फेसबुक मैसेंजर पर वीडियो कॉल आयाथ्था। कॉल रिसीव करते ही युवती बात करने लगी। चंद सेकंड में वह न्यूड हो गई। जब कुछ समझ नहीं आया, तो कॉल कट कर दिया।

Powered by Blogger.