REWA : रियल एक्टर का रियल काम : रीवा के तीन युवकों का होगा ऑर्गन ट्रांसप्लांट, Actor सोनू सूद ने उठाई खर्च की जिम्मेदारी

REWA ENWS : कोरोना काल में मसीहा बनकर उभरे बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद (bollywood actor sonu sood) अब भी दिल खोलकर लोगों की मदद कर रहे हैं। अब उन्होंने MP के तीन युवाओं के ऑर्गन ट्रांसप्लांट (organ transplant) का खर्च उठाने की जिम्मेदारी ली है। तीनों गरीब घर से है। सोनू ने 13 फरवरी को रीवा से तीनों को सूरत बुलवाकर वहां किरण हॉस्पिटल में भर्ती कराया है। ऑर्गन ट्रांसप्लांट के बाद तीनों को नई जिंदगी मिल सकेगी।

अब IPL में दिखेंगे रीवा के कुलदीप : 20 लाख रुपए में Rajasthan Royals ने खरीदा; बाल कटिंग की दुकान चलाकर बेटे को बनाया क्रिकेटर

अगस्त क्रांति मंच के संयोजक कुंजबिहारी ने बताया कि बिजलीकर्मी के जले हाथों, किसान के कटे हाथ और एक्सीडेंट में पैर खो चुके युवक का इलाज सूरत में हो रहा है। तीनों ने शासन-प्रशासन से मदद मांगी, पर किसी ने नहीं सुनी। युवाओं को इलाज मिल जाए तो एक बार फिर अपने घरों की जिम्मेदारी उठा सकेंगे। कुंज बिहारी ने सोनू सूद को ट्वीट कर इलाज के लिए मदद मांगी थी।

अवैध अतिक्रमण पर बड़ी कार्यवाही : रसिया मोहल्ले में नगर निगम ने ढहाई 11 दुकानें, लोगों ने एकतरफा कार्यवाही का किया जमकर विरोध

हादसे में खोया पैर

देवतालाब (रीवा) के प्रवीण तिवारी ने बताया कि 8 फरवरी 2021 को वह हादसे का शिकार हो गए थे। डॉक्टरों ने पैर काट दिया। मध्यप्रदेश में सही इलाज नहीं मिला तो एक साल से रायपुर एम्स में इलाज करा रहा था। अभी तक शासन से कोई मदद नहीं मिली। अब सूरत में पैर लगेगा।

रिश्वतखोर पुलिसकर्मी गिरफ्तार : गोविंदगढ़ थाने में लोकायुक्त की दबिश; TI, प्रधान आरक्षक और आरक्षक को पकड़ा

थ्रेसर से कट गया था हाथ

नईगढ़ी (रीवा) के कमलाकर कुशवाहा ने कहा कि सालभर पहले थ्रेसर से हाथ कट गया था। सरपंच ने कुंज बिहारी तिवारी से संपर्क किया। फिर सोनू सूद तक हमारी बात पहुंचाई। उम्मीद है कि हाथ लगते ही हमारा जीवन सही हो जाएगा। हम फिर से उसी तरह कार्य करने लगेंगे।

आज से Rewa- bhopal के बीच साप्ताहिक सुपरफास्ट ट्रेन शुरू : इन स्टेशनों पर रुकेगी ट्रेन, यह होगा समय

बिजली लाइन पर काम करते हुए झुलसे दोनों हाथ

लौआ (रीवा) निवासी यदुवंश प्रसाद विश्वकर्मा का कहना है कि वह बिजली विभाग के आउटसोर्स कर्मचारी थे। लाइन पर काम करते समय हादसे का शिकार हो गए। जिससे दोनों हाथ झुलस गए। बिना हाथ घर चलाना मुश्किल हो रहा है। रीवा के जनप्रतिनिधियों में दूरदर्शिता की कमी है। नहीं तो दूसरे शहरों में न भटकना पड़ता।

Powered by Blogger.