MP : विवाहिता ने की खुदकुशी : सुसाइड नोट में लिखा घुट-घुट के जीने से अच्छा मर जाऊं; ससुराल पक्ष की तारीफ, पति हमेशा हंसते रहें ...

भोपाल के अवधपुरी इलाके में विवाहिता ने खुदकुशी कर ली। उसके पास सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें ससुराल पक्ष की तारीफ की गई है। सुसाइड नोट में उसने खुद को जिम्मेदार बताया है। उसने लिखा, 'मैंने बहुत गलतियां की हैं। मुझे दुनिया का सबसे अच्छा ससुराल मिला। मैं चाहती हूं कि पति हमेशा हंसते रहें। आप सबको मेरी मौत से दुःख तो होगा, लेकिन घुट-घुट के जीने से अच्छा है कि मैं मर जाऊं। मम्मी-पापा की बहुत याद आएगी।'

कानपुर की रहने वाली आरती उर्फ अनामिका कैथल (26) ने बी.टेक. की पढ़ाई की थी। उसकी शादी दिसंबर 2020 में भोपाल के अवधपुरी में रहने वाले सतीश से हुई थी। पति ऑर्डनेंस फैक्ट्री में नौकरी करता है। रविवार शाम करीब सात बजे सतीश की मां ने आरती की मां को फोन कर बताया कि उसने जहर खा लिया है। इस पर आरती की मां ने तुरंत भोपाल में रहने वाले रिश्तेदारों को बेटी के घर भेजा।

रिश्तेदार आरती की सुसराल पहुंचे, तो ससुरालवालों ने उन्हें रेडक्रॉस अस्पताल बुलाया। रेडक्रॉस पहुंचे तो आरती वहां भी नहीं मिली। रात करीब 10 बजे आरती के पिता रामदेव कैथल को पता चला कि बेटी को हमीदिया अस्पताल लेकर गए हैं। उन्होंने रिश्तेदारों को हमीदिया भेजा। वहां रिश्तेदारों को बताया कि उसने फांसी लगा ली है।

मायके वाले बोले-दहेज के लिए बेटी को मार डाला

मायके वालों का कहना है कि शाम को जहर खाने की बात बताई थी, बाद में फांसी लगाने की बात कहने लगे। लड़की के परिजनों ने आरोप लगाया कि ससुराल वालों ने दहेज के लिए बेटी को मार डाला। वे दहेज में 10 लाख और कार के लिए उसे प्रताड़ित कर रहे थे। शव को लेकर भी दोनों पक्षों में विवाद हो गया। पुलिस दोनों एंगल से जांच कर रही है।

पिता बोले- मेरी बेटी की हत्या हुई

आरती के पिता ने बेटी की हत्या की आशंका जताई है। उन्होंने बताया कि ससुराल पक्ष के लोग बेटी की मौत पर मनगढ़ंत कहानी रच रहे हैं। कभी जहर खाना, कभी फांसी लगाना बता रहे हैं। उन्होंने कहा बेटी ने कुछ दिन पहले ही बताया था कि वह दिन भर कमरे में अकेली रहती है। सुसराल के लोग उसे घर से बाहर नहीं जाने देते थे।

पति कहता था- मांस-मछली नहीं बनाती हो

आरती के पिता ने आरोप लगाया कि बेटी को ससुराल वाले ताने मारते थे। सतीश भी ज्यादातर घर के बाहर ही रहता था। रात-रात भर नहीं लौटता था। जब आरती ने आपत्ति जताई, तो सतीश ने कहा कि तुम मांस-मछली बनाकर नहीं खिलाती हो, इसलिए बाहर जाना पड़ता है। अब तुम अकेले रहने की आदत डाल लो।

दिवाली पर पिता से फोन पर कहा था- मुझे ले जाओ

आरती ने 19 मार्च को शाम 7 बजे आखिरी बार पिता रामदेव कैथल से बात की थी। उन्होंने बताया कि पिछली दीपावली पर आरती का रात तीन बजे फोन आया था। उसने कहा था कि पापा मुझे यहां से ले जाओ। इसके बाद मैंने बेटी के ससुर से बात की और मामला सुलझ गया। अब अचानक से उसका सुसाइड करना संदेहास्पद लग रहा है।

पुलिस बोली- फंदा लगाकर की खुदकुशी

अवधपुरी थाना शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि प्रारंभिक जांच में मामला सुसाइड का लग रहा है। उसने घर में फंदा लगाकर खुदकुशी की है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद आगे की जांच की जाएगी। परिजनों के बयानों को भी जांच में शामिल करेंगे।

यह भी पढ़े : 

कैसे ढूँढी मैंने 1 अनोखी गोली जिससे मेरे पति का मोटे और सख्त तरह से खड़ा होना फिर से शुरू हो गया...और


Powered by Blogger.