REWA : दहेज की लंबित मांग को पूरा करने ज़िद पर अड़े ससुराल पक्ष, बिना शादी के वापस लौटी बारात, जयमाल लेकर थाने पहुंची दुल्हन

रीवा। दहेज की मांग पूरी न होने पर एक दुल्हन बिन ब्याही मंडप से उठ गई। दहेज के लिए रात में दोनों पक्षों के बीच विवाद हो गया और बारात बिना शादी के ही वापस लौट गई। दोनों पक्षों ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

रीवा में सिर कटी लाश का खुलासा : गुजारा भत्ता और संपति में हिस्सा न देने पर काट दिया था दाहिना हाथ और गुप्तांग, बोरी में भरकर 4 KM दूर फेंका था शव

ढाबा गांव से आई थी बारात

शाहपुर थाने के देवरा गांव निवासी सुखराम साकेत ने अपनी पुत्री की शादी ढाबा गांव में तय की थी जहां से मंगलवार की रात बारात आई थी। वैवाहिक आयोजन के दौरान कुछ रस्मे अदा हो गई थी लेकिन रात में ससुराल पक्ष के लोग दहेज की लंबित मांग को पूरा करने के लिए अड़ गए। इस बात को लेकर उनके बीच विवाद हो गया। दुल्हन पक्ष के लोग इस मांग को पूरा करने के लिए समय की मांग कर रहे थे लेकिन वे शादी से पहले दहेज की मांग को पूरा करने के लिए अड़े हुए थे। इस बात को लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद हो गया और स्थिति मारपीट तक पहुंच गई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई जिसने दोनों पक्षों को शांत कराया। बिना दहेज के लिए लड़के वाले शादी की मांग को पूरा करने को तैयार नहीं थे जिस पर बारात बिना शादी के ही वापस लौट गई।

दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत

सुबह दोनों पक्षों ने थाने पहुंचकर एक दूसरे के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है जिस पर पुलिस ने काऊंटर मामला दर्ज कर लिया है। शादी में लड़की पक्ष ने नकद रुपए व मोटर साइकिल देने का वायदा किया था लेकिन इस मांग को वे पूरा नहीं कर पाए थे और कुछ समय मांग कर रहे थे लेकिन ससुराल वाले बिना दहेज के शादी करने को तैयार नहीं थे। इस बात पर उनके बीच विवाद हो गया। थाना प्रभारी बालकेश सिंह ने बताया कि शिकायत मिलने पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। जांच में जो तथ्य सामने आयेंगे उस आधार पर आगे कार्रवाई की जायेगी।

जयपुर से एप्पल कंपनी की रीवा में दबिश : रीवा में Apple कंपनी के नाम पर डुप्लीकेट सामान बेंचने वाले तीन दुकानदारों पर FIR दर्ज

जयमाल लेकर थाने पहुंची दुल्हन

जिस समय यह विवाद हुआ उस समय जयमाल की रस्म चल रही थी। जयमाल लेकर दुल्हन जब पहुंची तो ससुराल वालों ने दहेज की मांग शुरू कर दी। जयमाल की रस्म नहीं हो पाई। सुबह दुल्हन जब थाने पहुंची तो उसके हांथ में जयमाला था। काफी देर तक वह माला लेकर थाने के सामने खड़ी रही।

Powered by Blogger.