REWA : जनता की समस्या से सांसद और विधायक बेख़बर : एक ऐसा गांव जहाँ बारिश आते ही 200 मीटर के ऐरिया में भर जाता है पानी, अति-आवश्यक कार्य होने पर ही जूता हाथ में लेकर निकलते है लोग

 

REWA : जनता की समस्या से सांसद और विधायक बेख़बर : एक ऐसा गांव जहाँ बारिश आते ही 200 मीटर के ऐरिया में भर जाता है पानी, अति-आवश्यक कार्य होने पर ही जूता हाथ में लेकर निकलते है लोग

जिला मुख्यालय से 100 किमी. दूर रीवा के अंतिम छोर का अमाव एक ऐसा गांव है। जहां के ग्रामीण वर्षा ऋतु ​में चार माह अपने-अपने घरों में कैद रहते है। घर से वही आदमी निकलता है जिसको अति-आवश्यक कार्य होता है। दावा है कि बारिश के मौसम में मरीज सहित गांव के छोटे-छोटे बच्चे घुटने तक भरे हुए पानी में गोते लगाते हुए स्थानीय प्रशासन को कोसते हुए जाते है।

लापता किशोरी महाराष्ट्र से बरामद : प्यार का झूठा बहाना बताकर 7 माह तक किया रेप , आरोपी के हवाले करने वाला भाई भी पहुंचा जेल

पानी भरे रहने के कारण विद्युत पोल से करंट उतरने की आशंका बनी रही है। पर शायद जिम्मेदारों को हादसे का ही इंतजार है। इसीलिए कोई समस्या का समाधान करना ही नहीं चाहता है। जबकि 500 मीटर की नाली बना देने से 200 मीटर के निचले ऐरिया में भरा पानी निकल सकता है। लेकिन सांसद और विधायक की उपेक्षा के कारण 1600 मतदाता वाले गांव के 2500 लोग घर में कैद रहने को मजबूर हैं।

REWA : जनता की समस्या से सांसद और विधायक बेख़बर : एक ऐसा गांव जहाँ बारिश आते ही 200 मीटर के ऐरिया में भर जाता है पानी, अति-आवश्यक कार्य होने पर ही जूता हाथ में लेकर निकलते है लोग

पूर्व मंत्री का ननिहाल है अमाव

बता दें कि दिवंगत पूर्व मंत्री व कई बार त्योंथर विधानसभा से विधायक रहे स्वर्गीय रमाकांत तिवारी का ननिहाल अमाव गांव में ही था। उनके रहते गांव में कई विकास कार्य भी हुए थे। लेकिन उनके निधन के बाद गांव की ओर किसी जनप्र​तिनिधि ने मुड़कर नहीं देखा। जबकि बीते एक दशक में गांव की जनसंख्या तो बढ़ी है। पर आबादी के हिसाब के गांव की सड़के ढलान वाले क्षेत्र में ही बना दी गई। जिससे बारिश के समय गांव का एकत्र हुआ पानी वहीं पर सिमटता है। जो चार माह इसी तरह भरा रहता है।

आकस्मिक चिकित्सा कक्ष के सामने बैठी नग्न महिला का वीडियो और फोटो वायरल : अचानक अस्पताल पहुँचे कमिश्नर- कलेक्टर ने चिकित्सा अधिकारियों की जमकर ली क्लास

दो भागों में बंटा रहता है गांव

युकां के त्योंथर विस अध्यक्ष रावेन्द्र तिवारी ने बताया कि बारिश के कारण अमाव गांव दो भागों में बंटा रहा है। वर्षा ऋतु में जो जिस ओर रहता है। उसी ओर थम जाता है। क्योंकि घुटने तक भरे पानी में रोजाना आना जाना आसान नहीं है। हर पल लोग खतरे का सामना करते हुए आते जाते रहते हैं। फिर भी अमाव ग्राम पंचायत के सरपंच-सचिव इस समस्या पर गौर नहीं कर रहे है। दावा है कि कई बार स्थानीय लोग ​जनपद पंचायत के आला अधिकारियों को सूचित कर चुके है पर कोई निदान नहीं किया गया।

फिर टमस नदी में मिला महिला का शव : पुलिस ने से शुरू किया रेस्क्यू; तेज बहाव के कारण एक जगह से दूसरे जगह जा रहा शव

निचले क्षेत्र में बिना हाइट दिए बना दी थी सड़क

आरोप है कि ग्राम पंचायत द्वारा सड़क निर्माण कराते समय मानकों का पालन न करते हुए जल्दबाजी में सड़क बना दी गई थी।​ निर्माण एजेंसी द्वारा भविष्य को न सोचते हुए निचले क्षेत्र में बिना हाइट दिए 200 मीटर की सड़क बना दी थी। जिससे बारिश के मौसम का पानी मुख्य सड़क के पास ही एकत्र हो रहा है। जबकि 500 मीटर की नाली बनाकर ये पानी निकल सकता है। पर स्थानीय अमला ध्यान नहीं दे रहा है।

एक दिन के प्रवास पर रीवा आए ऊर्जा मंत्री : सुरक्षाकर्मियों और पुलिस जवानों की NSUI कार्यकर्ताओं से झूमाझटकी : काले झंडे दिखाकर जमकर किया विरोध

बिजली के पोल से करंट फैलने की आशंका

ग्रामीणों ने बताया कि गांव के मध्य में पानी भरा रहने से बिजली के रेल पोलों से करंट उतरने की आशंका है। जिससे आम जनता से लेकर मवेशियों की जान का भी खतरा मडरा रहा है। क्यों​कि पूर्व टोला और पश्चिम टोला के ग्रामीण इसी एक रास्ते से निकलते है। ऐसे में बारिश के समय एक गांव दो भागों में विभाजित रहता है। जबकि अमाव ग्राम पंचायत में टोंकी गांव भी शामिल है। लेकिन वहां हद तक व्यवस्थाएं सही है।

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read