REWA : अपहरण की खबर निकली फर्जी : रीवा के रौनक ने 3 लाख नकली नोट के बदले 1 लाख असली नोट की रखी डील, तस्कर पकड़ाया

 

REWA : अपहरण की खबर निकली फर्जी : रीवा के रौनक ने 3 लाख नकली नोट के बदले 1 लाख असली नोट की रखी डील, तस्कर पकड़ाया

रीवा शहर में दो दिन पहले शाम को चली अपहरण की खबर फर्जी निकली है। दरअसल अपहरण का आरोप लगाने वाले दोनों युवक फरियादी नहीं, बल्कि शातिर नोटों के तस्कर है। सूत्रों का दावा है कि राजस्थान के नामी चिकित्सक के कहने पर दोनों बदमाश नकली नोट लेने रीवा शहर आए थे। यहां पुलिस को बदमाशों के नेटवर्क के बारे में पता चल गया। ऐसे में तीन थानों की पुलिस ने घेराबंदी कर चारों बदमाशों की तलाश शुरू कर दी।

जिससे बदमाश कार में सवार होकर भागने लगे। पुलिस ने पीछा किया तो शहर के सबसे व्यस्ततम अस्पताल चौराहे में दो बदमाश कार से कूद गए। जिनको पुलिस ने धर दबोचा है। जबकि सतना और रीवा के दोनों युवक मौका देख भाए गए है। हालांकि एक आरोपी को पुलिस ने दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया है। ज​बकि नोटों का मुख्य तस्कर फरार हो गया है। इस मामले में पुलिस ने राजस्थान के अस्पताल संचालक को आरोपी बनाया है।

ये है मामला

एएसपी अनिल सोनकर ने बताया कि 15 जुलाई को मुखबिर से एक सूचना प्राप्त हुई। दावा किया गया कि राजस्थान के दो लोग कार से रीवा आए है। ये बदमाश लोकल लोगों की मदद से नकली नोट का कारोबार करते हैं। जिसके बाद एसपी नवनीत भसीन को पूरे मामले की जानकारी दी गई।

टीम शामिल पुलिस अधिकारी

नकली नोट के मामले को एसपी ने संज्ञान लेकर एक टीम बनाई। टीम में विश्वविद्यालय थाना प्रभारी निरीक्षक विद्यावारिधि तिवारी, सिविल लाइन थाना प्रभारी निरीक्षक हितेन्द्रनाथ शर्मा, अमहिया थाना प्रभारी शिवा अग्रवाल और सायबर सेल प्रभारी वीरेन्द्र पटेल अपने-अपने स्टाफ के साथ जांच शुरू की।

पुलिस को देखकर भागने लगे आरोपी

एसपी द्वारा गठित टीम ने घेराबंदी की तो 4 तस्कर भागने लगे। डर के मारे 2 व्यक्ति कार से रोड पर गिर गए। जिन्हे पुलिस ने दौड़कर पकड़ लिया है। वहीं दो बदमाश कार खड़े कर दूसरी दिशा की ओर भागे। हालांकि 1 आरोपी अंधेरा होने के कारण भाग गया। जबकि दूसरे व्यक्ति को पकड़ लिया है।

ये तस्कर आए पकड़ में

रीवा पुलिस की पकड़ में आए बदमाशों में किशन लोधी पुत्र नेमीचन्द्र लोधी (27) निवामी नेहरा लोधा थाना चिकसाना जिला भरतपुर राजस्थान, रिंकू लोधी उर्फ भल्द पुत्र तिरोडी लोधी (19) निवासी नेहरा लोधा थाना चिकसाना जिला भरतपुर राजस्थान, अभिनव पुत्र प्रहलाद सिंह बघेल (25) निवासी शुकुलगवां थाना ताला जिला सतना को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि रौनक पाण्डेय निवासी देवतालाब जिला रीवा और डॉ. उदित चौधरी निवासी भरतपुर संचालक आरयू अस्पताल फरार है।

500-500 रुपये के 300 नकली नोट बरामद

पुलिस ने बदमाशों के कब्जे से दो कारे जब्त की है। पहली कार क्रमांक UP 85 BW 2677 और दूसरी कार क्रमांक MP 17 CB 7879 शामिल है। कार के अंदर तलाशी लेने पर 500-500 रुपए के 300 नोट मिले है। गिनती करने पर ओवरहाल 1,50,000 रुपए नकली नोट मिले है। जिनकी जब्ती बनाते हुए आईपीसी की धारा 489 ग, 120 बी का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

अस्पताल संचालक ने भेजा था रीवा

पुलिस की मानें तो रौनक पाण्डेय 1,00,000 रुपए के बदले 3 लाख रुपए फर्जी नोट देने का प्रलोभन दिया था। ऐसे में दोनों आरोपी अस्पताल संचालक के कहने पर रीवा आए थे। पूछताछ में किशन लोधी और रिंकू लोधी ने स्वीकार किया है कि वे पहले भी इस तरह का लेनदेन करने राजस्थान के भरतपुर जिले से रीवा शहर आ चुके है।

तीन दिन की रिमांड पर तीन आरोपी

आरोपी रिंकू भरतपुर जिले में संचालित आरयू अस्पताल के संचालक डॉ. उदित चौधरी की पैथालाजी में कर्मचारी है। वह चिकित्सक के कहने पर रीवा आया था। पूछताछ में अन्य लोगों की भी संलिप्तता पाई गई है। जिनको पकड़ने के लिए पुलिस टीम भेजी है। गिरफ्तार बदमाशों को न्यायालय ने तीन दिन की पुलिस रिमांड दी है। जिनसे गहनता से पूछताछ की जा रही है।

REWA में कट्टे की नोक पर अपहरण कर मांगी 10 लाख की फिरौती, आधा दर्जन बदमाशों ने दो युवकों से 50 हजार से ज्यादा का कैश छीना

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read