REWA : शिक्षा विभाग में मची खलबली : दो से ज्यादा संतान वाले शिक्षकों की विभाग खंगाल रहा है कुंडली


ऋतुराज द्विवेदी,रीवा. तीसरे प्रसव पर दो से ज्यादा संतान होने वाले जिले के ऐसे शिक्षकों की शिक्षा विभाग इन दिनों जानकारी एकत्र कर रहा है। इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी ने सभी ब्लाक शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिख कर जानकारी तलब की है। विभाग की इस जानकारी से शिक्षा विभाग के शिक्षकों में खलबली मच गई है। हांलाकि यह जानकारी विधानसभा से चाही गई। जानकारों का मनना है कि सरकार दो बच्चो को बढ़वा देने के लिए जंहा इस पर बड़ा निर्णय ले सकती है। वही दो से ज्यादा संतान वाले शिक्षकों को इस मापदंड के तहत सरकार के बनाए कानून का डंडा भी पड़ सकता है।


यह है पत्र में 
जिला शिक्षा अधिकारी के द्वारा जारी किए गए पत्र में बताया गया कि विधानसभा से जो जानकारी मांगी गई है उसके तहत ऐसे शिक्षकों के नाम और उनका बायोडाटा तथा दो से ज्यादा संतान की जानकारी दी जाए जो शिक्षक 26 जनवरी 2001 के बाद से नौकरी कर रहे हैं। पत्र का आशय है कि ऐसे शिक्षकों की जानकारी एकत्र करना है जो 2001 के बाद दो से ज्यादा संतान होने के बाद नौकरी कर रहे है।


इन्हें मिलेगी छूट 
बताया जा रहा है कि दो संतान वाले परिवार को आदर्श परिवार मानते हुए इसे बढ़ावा दिया जा रहा। लेकिन दूसरे प्रसव में कई बार जुड़वा बच्चो का जन्म हो जाता है। ऐसे में दूसरे प्रसव से होने वाली तीन संतान को इस नियम से मुक्त रखा गया है। जबकि दो संतान होने के बाद अगर शिक्षक दंपती तीसरे प्रसव से तीसरा बच्चे पैदा करता है तो वह चाही गई जानकारी की वर्णमाला में शामिल हो जाएगा। शिक्षा विभाग में चाही गई जानकारी की भनक लगते ही ऐसे शिक्षक चिंतित हो गए है। जिनकी दो से ज्यादा संतानें हैं।

वर्ष 2001 के बाद से जो शिक्षक नौकरी कर रहे हैं और उनकी दो से ज्यादा संतान तीसरे प्रसव से हुई हैं। ऐसे शिक्षकों के संबंध में जानकारी विधानसभा से मांगी गई है। जानकारी एकत्र की जा रही है। जल्द ही जानकारी भेजी जाएगी।

आरएन पटेल, जिला शिक्षा अधिकारी रीवा।


Powered by Blogger.