SATNA : KJS CEMENT कंपनी के ठिकानों पर हुई छापेमार कार्यवाही, पकड़ी गई 17 करोड़ रुपए से अधिक की GST चोरी


सतना. गुड्स एंड सर्विस टैक्स का भुगतान किए बगैर करोड़ों का कारोबार करना KJS सीमेंट कंपनी के मालिकों को भारी पड़ गया है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍ट टेक्‍सेस एंड कस्‍टम्‍स ने इस मामले में यूपी और मध्य प्रदेश के कई जिलों में छापेमारी कर 17 करोड़ रुपये से अधिक की जीएसटी की चोरी पकड़ी है। इस मामले में केजीएस सीमेंट फैक्ट्री के सीनियर प्रेसिडेंट कुशल सिंह सिंघवी को गिरफ्तार कर लिया गया है।


बताया जा रहा है कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍ट टेक्‍सेस एंड कस्‍टम्‍स की ओर से 5 से 11 अगस्‍त के बीच मध्‍य प्रदेश, उत्‍तर प्रदेश और दिल्‍ली के 28 स्‍थानों पर छापेमारी की। जिसमें मध्‍य प्रदेश के मैहर और सतना, यूपी के प्रयागराज, कुशीनगर, आगरा और कानपुर शामिल हैं। इस दौरान जांच में पता चला कि एमपी और यूपी में गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स  के भुगतान के बिना सीमेंट और क्लिंकर की सप्‍लाई की गई थी। यह भी जानकारी हुई कि जनवरी से जुलाई 2020 के बीच कंपनी की ओर से जो रिकॉर्ड दिखाया गया है, उससे चार लाख टन अधिक लाइम स्‍टोन की खरीदी गई।


केजेएस सीमेंट फैक्ट्री पर छापा
डीजीजीआई टीम ने कंपनी के अधिकारियों के लेन-देन के रिकॉर्ड में भी भारी अनियमितता पाई। तलाशी के दौरान 52.39 लाख रुपये भी बरामद किए गए। मध्‍य प्रदेश में डीजीसीआई की ओर से हाल के समय में यह तीसरा बड़ा सर्च ऑपरेशन है। इससे पहले गुटखा कारोबारी किशोर बाधवानी के परिसरों में तलाशी अभियान के दौरान करीब 400 करोड़ रुपये की कर चोरी का खुलासा हुआ था। जीएसटी इंटेलीजेंस ने सोम डिस्टिलरी के सीईओ को करीब 30 करोड़ रुपये की कर चोरी में गिरफ्तार किया है। कंपनी के दोनों प्रमोटर्स जगदीश और अजय अरोरा को 24 अगस्त तक न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया था, लेकिन दोनों ही स्‍वास्‍थ्‍य कारणों से अगले दिन अस्‍पताल में भर्ती हो गए।


देश की बड़ी सीमेंट कंपनियों में शुमार सतना के अहलूवालिया ग्रुप में करोड़ों की क्रच्च्र् चोरी की कहानी अब खुल गई है। कंपनी ने कैसे माल खरीदा और बिना टैक्स पे किए उसे बेच दिया। सतना जिले के मैहर में स्थित केजीएस सीमेन्ट प्लांट से हुए कारोबार में अहलूवालिया ग्रुप की इस कंपनी में 17 करोड़ रुपए से अधिक की जीएसटी चोरी की पुष्टि हुई है। सेंट्रल जीएसटी यानि डीजीजीआई और सीबीआईसी की संयुक्त टीम ने कंपनी के देश भर में 28 ठिकानों पर छापा मारा था। इस मामले में कंपनी के सीनियर प्रेसिडेंट कुशल सिंह सिंघवी को गिरफ्तार किया गया है। कंपनी के एमडी पवन अहलूवालिया भूमिगत बताए जा रहे हैं।


जानकारी के मुताबिक 5 अगस्त को सेंट्रल जीएसटी की टीम ने केजेएस सीमेंट के मैनेजिंग डायरेक्टर पवन अहलूवालिया के सतना में बांधवगढ़ कॉलोनी स्थित निवास पर छापा मारा था। कई दिन तक चली इस कार्रवाई में सेंट्रल जीएसटी के बाद केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड की टीमें भी शामिल हुई थीं। अहलूवालिया के घर और दफ्तर के अलावा केजेएस सीमेंट के डीलर्स और अधिकारियों के यहां भी छापा पड़ा।

केजेएस सीमेंट फैक्ट्री
जीएसटी इंटेलिजेंस की टीम ने केजेएस सीमेंट के सीनियर प्रेसिडेंट कुशल सिंह सिंघवी को गिरफ्तार कर बुधवार को अदालत में पेश किया. टैक्स चोरी के इस बड़े मामले में फंसी केजेएस सीमेंट के प्रेसिडेंट को अदालत ने 25 अगस्त तक के लिए जेल भेज दिया है। जीएसटी के अधिकारियों ने बताया कि जांच अभी जारी है। अब तक लगभग 17 .2 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी के साक्ष्य मिले हैं। साढ़े 7 करोड़ के नगद कारोबार के दस्तावेज मिले हैं। लगभग 52 लाख 39 हजार रुपये की नगदी भी जब्त की गई। टैक्स चोरी का आंकड़ा अभी बढ़ सकता है।


केजेएस सीमेंट के मैनेजिंग डायरेक्टर पवन अहलूवालिया अभी भूमिगत हैं। उनके दिल्ली जाने की खबर है.जीएसटी इंटेलिजेंस टीम की कई दिन चली जांच पड़ताल और उसमे केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड की प्रवर्तन शाखा की टीमों के भी शामिल हो जाने के बाद पवन अहलूवालिया की मुश्किलें बढ़ गई हैं।


Powered by Blogger.