HONEY TRAPE की आरोपी की जेल से वायरल हुई तस्वीर, महिला वार्ड से बड़ी मात्रा में सौंदर्य सामग्री जब्त होने की सूचना


इंदौर। जिला जेल में बंद हनी ट्रैप मामले की आरोपी श्वेता पति विजय जैन से पूछताछ का फोटो वायरल होने के बाद गुरुवार सुबह जेल डीआईजी संजय पांडे ने जेल में छापामार कार्रवाई की । यहां बड़े पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे डीआईजी ने जेल के प्रत्येक सेल की तलाशी ली । जेल के महिला सेल में सौदर्य प्रसाधन की सामग्री मिलने के साथ ही खाने पीने की वस्तुएं भी मिली है।डीआईजी के मुताबिक जेल के भीतर जेलर के के कुलश्रेष्ठ ने हनी ट्रैप की आरोपी से पूछताछ की थी । जिसका फोटो वायरल हुआ है। पूछताछ क्यों की गई थी इसकी जानकारी तो जेलर से ली जा रही है।लेकिन जेल के अंदर के फोटो का वायरल होना ये गंभीर अपराध है।जेल के अंदर मोबाइल फोन और हिडन कैमरा कैसे पहुंचा इसकी जांच की जा रही है।इसके अलावा जेल में करीब 50 बंदी कोरोना संक्रमित भी पाए है। इसे लेकर भी ये दौरा किया गया है।


बता दें कि मामला बेहद संगीन है लिहाजा, भोपाल से आला अधिकारी को तस्दीक के लिए इंदौर आना पड़ा है। दरअसल, इंदौर की जिला जेल के उपाधीक्षक केके कुलश्रेष्ठ के साथ हनीट्रैप आरोपी श्वेता विजय जैन से बात करते हुए तस्वीर सामने आई है। मामले की जांच एसआईटी कर रही है और ऐसे में इस तरह की तस्वीर सामने आना कई सवाल खड़े कर रही है। हालांकि जेल मैन्युल के हिसाब से तमाम नियम और कानून की दुहाई इस मामले में दी जा रही है,लेकिन अब इंदौर की जिला जेल के जेलर के.के.कुलश्रेष्ठ पर सवालिया निशान लग रहे हैं। जेलर और महिला आरोपी की तस्वीर के सामने आने के बाद किसी बड़ी साजिश से इंकार भी नही किया जा सकता है।



सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीर की वजह से भोपाल से आनन फानन में जेल डीआईजी संजय पांडे को इंदौर पहुंचना पड़ा। हालांकि मामला महिला बंदी से जुड़ा है इसलिए जांच के लिए आज तक का इंतजार खुद जेल डीआईजी को करना पड़ा था। शाम को इंदौर पहुंचे जेल डीआईजी संजय पांडे ने बताया कि वो अलग - अलग मामलों कि जांच करने इंदौर पहुंचे है। वही उन्होंने हनीट्रैप मामले में आरोपी महिला की जेलर के साथ वायरल हुई तस्वीर की जांच की बात को भी नकारा नहीं है।


जेल में मारे गए छापा से पहले उन्होंने मीडिया से बातचीत कर जेल मेन्यूल के संबंध में तमाम जानकारी भी साझा की। इधर, जिला जेल के उपाधीक्षक के.के. कुलश्रेष्ठ भी तस्वीर के वायरल होने पर हैरानी जताई है, लेकिन उन्होंने इस बात को माना है कि किसी की साजिश है। हालांकि जेल मैन्युल साफ कहता है कि कोई महिला बंदी से किसी भी तरह की बातचीत के दौरान जेल की एक महिलाकर्मी का मौजूद होना जरूरी होता है और बस ये ही वजह है, कि इस मामले ने इतना तूल पकड़ लिया है।


Powered by Blogger.