REWA : नियम विरुद्ध जुगाड़ जमाकर CMO के प्रभार में जमे सहायक शिक्षक को हटाया




रीवा। नगर निगम के सहायक शिक्षक रहे हरिमित्र श्रीवास्तव पर एक बार फिर से कार्रवाई हुई है। बीते कई महीनों से वह मऊगंज नगर परिषद में सीएमओ के प्रभार पर थे। संभागीय संयुक्त संचालक ने आदेश जारी करते हुए हरिमित्र का प्रभार वापस लेते हुए नगर परिषद मनगवां के सीएमओ संतोष कुमार पाण्डेय को प्रभार दे दिया है। अपनी नियुक्तियों को लेकर हर समय चर्चा में रहने वाले हरिमित्र श्रीवास्तव के खिलाफ कई शिकायतें शासन स्तर पर भेजी गई थी। पूर्व में इन शिकायतों को दरकिनार करते हुए वे प्रभार लेने में सफल रहे थे। 


इन पर कूटरचना का भी आरोप रहा है। जिसके चलते हाईकोर्ट ने धोखाधड़ी करने और पदनाम परिवर्तन नियम विरुद्ध करा लेने की वजह से सख्त कार्रवाई के लिए निर्देशित किया था। जिसके चलते पूर्व में नगर निगम ने उन्हें निलंबित कर दिया था। इतना ही नहीं उन पर एफआइआर दर्ज कराने और बर्खास्ती की प्रक्रिया के विकल्पों पर भी विचार करने के लिए शासन की ओर से निर्देशित किया गया था। 


निगम आयुक्त ने पहले तो निलंबित कर दिया लेकिन कुछ समय के बाद फिर से उन्हें बहाल कर दिया। इतना ही नहीं निगम में ही जनसंपर्क सहित अन्य कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों के कार्य भी सौंप दिए थे। उस दौरान भी कई शिकायतें आई थी लेकिन इन पर कार्रवाई नहीं हुई। कुछ समय के बाद उन्होंने शहरी विकास अभिकरण में पदस्थापना करा ली। जहां से बीते नौ जून को मऊगंज नगर परिषद का अस्थाई प्रभार का आदेश भी जारी करवा लिया।


गैर फीडर कैडर वाले प्रभारी हर जगह से हटाए जाएंगे
हाल ही में शासन ने भी एक आदेश जारी कर कहा है कि नगर परिषदों में फीडर कैडर में नहीं आने वाले कर्मचारियों को प्रभार से हटाया जाएगा। करीब पांच वर्ष हाईकोर्ट के एक आदेश का हवाला देते हुए कहा गया है कि नियमित नगर पालिका अधिकारियों या फिर इस पद के लिए पदोन्नति हेतु विचार क्षेत्र में आने वाले कर्मचारियों की पोस्टिंग की जाएगी। इससे रीवा सहित अन्य जिलों के कई नगर परिषदों के प्रभारी सीएमओ हटाए जाएंगे। अब तक ये अधिकारी जुगाड़ व्यवस्था से जमे हुए थे। इसी का हवाला देते हुए मऊगंज के प्रभारी सीएमओ को हटाया गया है।


शासन का निर्देश है कि फीडर कैडर के अधिकारी ही नगर परिषदों के प्रभारी बनाए जाएं। मऊगंज के प्रभारी सीएमओ इस पर नहीं आते इसलिए उनका प्रभार लेकर मनगवां के सीएमओ को दिया गया है। 

एसके सिंह, संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन
Powered by Blogger.