MP : 77 दिन बाद आया मौत का आंकड़ा हुआ शून्य, अब तक 33 हजार 571 केस सामने आए : 679 मौत



त्योहारी सीजन में कोरोना के मरीजों के बढ़ने की उम्मीद के उलट इस संख्या के घटने का शुरू हुआ सिलसिला लगातार जारी है। रविवार को मरीजों की संख्या 142 थी जो सोमवार देर रात को घटकर 112 पर आ गई। बड़ी बात यह है कि एक भी मरीज की जान नहीं गई। ऐसा 77 दिन बाद हुआ है जब मौत का आंकड़ा नहीं बढ़ा। इसके पहले 9 अगस्त को कोई मौत नहीं हुई थी। वहीं, 4 अगस्त को 122 मरीज आए थे, उसके बाद लगातार मरीज बढ़ते गए। सितंबर में 400 का आंकड़ा पार करने के बाद 14 अक्टूबर से मरीज कम होना शुरू हुए। कोरोना रिकवरी रेट भी 88.22 हो गया है।


कोरोना संक्रमण के अब तक कुल 33 हजार 571 केस सामने आए हैं। अक्टूबर के 26 दिनों की बात करें तो 8711 मरीज मिले हैं। हालांकि इन 8 महीनों में सितंबर सबसे ज्यादा घातक साबित हुआ है। एक सितंबर से 30 सितंबर तक कुल 11 हजार 225 नए संक्रमित मरीज मिले थे। अब तक हुई 679 मौतों में से सितंबर के 30 दिनों में 174 मौतें हुई थीं। अक्टूबर की बात करें तो अब तक 106 मरीजों की जान गई है।


पिछले कुछ दिनों से नए कोरोना मरीजों के मिलने का सिलसिला 300 से कम हो गया है। रविवार देर रात 112 नए मामले सामने आए हैं। 2243 सैंपलों की जांच में 2113 की रिपोर्ट निगेटिव आई। अब तक 3 लाख 84 हजार 803 सैंपलों की जांच हो चुकी है। संक्रमितों में 29616 लोग ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं। वहीं, जिले में अभी भी 3276 एक्टिव मरीज हैं। अब तक प्राप्त रैपिड एंटीजन सैंपलों की संख्या 102177 हो गई है। इंदौर में पहली बार 24 मार्च को कोविड-19 पॉजीटिव मरीज सामने आए थे। उसी समय पूरे देश में लॉकडाउन लागू किया गया था। इसके बावजूद रोजाना मरीजों की संख्या में इजाफा होता रहा, लेकिन सितंबर में तो मानो कोरोना ब्लास्ट ही हो गया।


सबसे ज्यादा प्रिकांको कॉलोनी संक्रमित, 9 पॉजिटिव मिले
सोमवार देर रात 78 कॉलोनियों से नए मरीज सामने आए। इनमें सबसे ज्यादा संक्रमित प्रिकांको कॉलोनी रही, जहां से 9 मरीज मिले। इसके अलावा साहिल शिवनेरी में पांच, सुखलिया, हीरा नगर, न्याय नगर में चार, त्रिवेणी नगर, चितावद में चार, जबकि विजय नगर, स्कीम 114, बख्तावर राम नगर, बाणगंगा, स्कीम नंबर 54 और समर्थ टॉवर में तीन-तीन मरीज मिले हैं। इसके अलावा ज्यादातर क्षेत्रों में एक या दो मरीज सामने आए हैं।
Powered by Blogger.