REWA : सुहाने मौसम के साथ ठंड का प्रभाव हुआ तेज, 5.4 डिसे पर पहुंचा पारा

रीवा। ठंड का मौसम इन दिनों शबाब पर है और सोमवार को मौसम का तेवर इतना तेज रहा कि सुखे कपड़े भी गिले महसूस होते देखे गए । सुबह जब लोगों की नींद खुली उन्हें यह समझ में ही नहीं आ रहा था कि काम पर जाए या ठंड से बचाव करें। तुषारपात के चलते कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था। तुषारपात का असर सुबह 10ः30 बजे तक रहा। हालांकि इसके पूर्व तक तुषारपात का प्रभाव इतना ज्यादा था पूरा शहर तुषारपात की चादर में ढंका रहा। गलन के बीच लोग ऑफिस जाने को मजबूर दिखाई दिए। बदले हुए मौसम के बीच लगभग दो डिग्री तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। मंगलवार को सुबह के समय जहां न्यूनतम तापमान 5.4 डिग्री के आसपास रहा। वहीं दोपहर धूप निकलने के बाद 2 डिग्री तापमान बढ़कर 16.7 पहुंच गया।

डॉक्टर और प्रबंधन की लापरवाही से फिर रीवा व्हाइट टाइगर सफारी में 7 वर्षीय सफेद बाघ गोपी की मौत

कोहरे का कहर, डिवाइडर से टकराए दो बाइक सवार : जिले के नेशनल हाईवे 135 में कोहरे का कहर भी रहा। मऊगंज थाना के बाईपास में एक-एक करके 2 बाइकसवार टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हुए है। बताया जा रहा है कि हाईवे के डिवाइडर में गांव से आ रहा बाइक सवार टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। तो वही अनियंत्रित बाइक सवार डिवाइडर से टकरा गया। हालांकि इस दुर्घटना में बाइक सवार सुरक्षित बताए गए हैं। जानकारी मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी ली।

नशे के कारोबारियों पर बड़ी कार्यवाही : दो मेडिकल स्टोरों को शील कर लाइसेंस निरस्त करने की तैयारी : मेडिकल संचालकों में मचा हड़कंप 

आग का सहारा : मौसम से बचाव करने के लिए प्रशासन ऐसे लोगों को सुरक्षित स्थानों में रखने की व्यवस्था करता है जो खुले आसमान के नीचे रहते है, लेकिन सोमवार को जन मानस इस कपकपाती ठंड से बचने के लिए आग का उपयोग करके ठंड से बचने का प्रयास करते नजर आए ।


परशुराम आश्रम पर चला प्रशासन का बुलडोजर, नवयुवक़ो समेत साधु संतों में फूटा गुस्सा : कांग्रेस बोली- मंदिर पर राजनीति करने वाली BJP ने मंदिर गिरा दिया

बीहर में अद्भुत नजारा : शहर के मध्य से बहने वाली बीहर नदी का नजारा कोहरा और मौसम के बीच देखते ही बन रहा था। चट्टानों से गिरने वाले पानी से जहां धुआ जैसे निकल रहा था वही कोहरा-धुआं और पानी के बीच मानव एक अद्भुत नजारे को तैयार कर रहा था। सुबह के समय निकलने वाले लोगों के लिए यह नजारा अपने आप में अद्भुत था । हर कोई इसका आनंद उठाते हुए नजर आए हालांकि ठंड का प्रभाव तेज होने के कारण कम लोग ही नदी पर बने पुल पर नजर आ रहे थें।

Powered by Blogger.