REWA : बाबा घाट से लेकर राजघाट तक होगा सौंदर्यीकरण, आवश्यक मकान हटाकर दिया जाएगा मुआवजा : प्रशासन की तैयारी शुरू


रीवा। शहर में बीहर नदी के किनारे बाबा घाट से लेकर राजघाट तक बनाए जा रहे रिवरफं्रट के लिए दायरे में आ रहे मकानों को खाली कराने की तैयारी प्रशासन की ओर से की गई है। इसके साथ ही स्थानीय लोग भी सामने आए हैं और कहा है कि नियमों के अनुसार उन्हें मुआवजा दिए जाने के बाद ही भूमि खाली करेंगे।


बढ़ते विरोध को देखते हुए प्रशासन ने भी लोगों को समझाया है कि नदी के किनारे 15 मीटर की ही भूमि प्रोजेक्ट में ली जाएगी। इसकी जद में आने वाले उन्हीं मकानों को हटाया जाएगा, जिन्हें हटाना आवश्यक होगा। प्रशासन के इस रुख को देखते हुए स्थानीय लोगों ने भी कहा है कि वह प्रशासन के निर्णय को सहजता से स्वीकार करेंगे लेकिन उनकी मांगों पर भी विचार करना होगा।


एक दिन पहले ही स्थानीय विधायक राजेन्द्र शुक्ला के आवास पर घोघर और पचमठा के करीब सैकड़ा भर लोग पहुंचे थे। विधायक ने प्रशासन की तैयारियों के संबंध में जानकारी देते हुए कहा था कि जिन्हें हटाया जाएगा उनके लिए पुनर्वास की व्यवस्था भी होगी। आवास योजना के मकान एवं भूखंड देने की बात कही गई लेकिन अधिकांश लोगों ने इस बात को लेकर आपत्ति उठाई कि शासन की योजना के तहत किसी प्रोजेक्ट को लगाने में जिन नियमों के तहत मुआवजा दिया जाता है उसी के तहत उन्हें भी दिया जाए। इस पर विधायक ने कहा है कि शासन स्तर पर चर्चा कर इस मांग को पूरा कराने का प्रयास करेंगे। 


बताया गया है कि पूूर्व में प्रशासन ने कहा था कि बीहर नदी के किनारे ग्रीन जोन जो 50 मीटर के दायरे में है। वहां का कब्ींाा हटाया जाएगा। इसमें बड़ी संख्या में मकान फंस रहे थे। जिसकी वजह से लोगों ने विरोध शुरू कर दिया था। जब प्रशासन की ओर से बताया गया कि 15 मीटर ही नदी के किनारे रिवरफ्रंट का निर्माण होगा।

माफिया के गुर्गों में महिलाओं से की अभद्रता
स्थानीय लोगों ने विधायक और प्रशासन के सामने यह बात रखी थी कि उन्होंने भूमि खरीदकर मकान बनाया है। जिसमें एक भूमाफिया से जुड़े लोगों ने रुपए लिए थे। यह बात सामने आने के बाद माफिया के गुर्गे पचमठा के पास पहुंचे और जो महिलाएं शिकायत लेकर गई थी उन्हें धमकाया। इतना ही नहीं कुछ स्थानीय लोगों ने विरोध किया तो उनके साथ धक्का मुक्की भी शुरू कर दी गई। बढ़ते तनाव के बीच स्थानीय लोगों ने इन गुर्गों को घेरना शुरू किया तो वह भाग निकले और धमकियां देकर गए हैं कि फिर आएंगे। 


रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट में नदी के किनारे 15 मीटर के दायरे में निर्माण कार्य होगा। जहां पर सरकारी भूमि पाई जाएगी वहां पर नदी किनारे ही पार्क विकसित किए जाएंगे। कार्य प्रारंभ करने की तैयारी चल रही है।
Powered by Blogger.