MP DELED Exam: MP BOARD ने डीएलएड परीक्षा की समय-सारिणी की जारी : देखें

भोपाल। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) ने डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड) प्रथम व द्वितीय वर्ष का परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया है। इसके साथ ही माशिमं ने डीएलएड के विद्यार्थियों को कुछ सहूलियत भी दी हैं। ये परीक्षाएं 20 फरवरी से शुरू होकर चार मार्च तक संचालित की जाएंगी। माशिमं ने द्वितीय वर्ष के परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र बदलने की सुविधा दी है। लॉकडाउन या कोरोना संक्रमण की वजह से जो विद्यार्थी परीक्षा नहीं दे पाए हैं, वे अपने गृह जिले में नजदीकी परीक्षा केंद्र से परीक्षा दे सकते हैं। दरअसल, माशिमं ने निर्देश जारी किए हैं कि ऐसे परीक्षार्थी जो कोरोना संक्रमण की वजह से अब भी अपने गृह जिले में हैं, ऐसे परीक्षार्थी परीक्षा से वंचित न हों।

गणतंत्र दिवस पर पुलिस अलर्ट, रेलवे स्टेशन से लेकर मार्केट में चेकिंग; बाहरी लोगों पर खास नजर, 150 से ज्यादा चेकिंग पाइंट और 4 हजार बल तैनात

इसके लिए माशिमं ने परीक्षा केंद्र बदलने की सुविधा प्रदान की है। वहीं, परीक्षार्थी प्रदेश की जिस भी जिले में रह रहे हों, उस जिले के निकटतम संभागीय मुख्यालय का चयन कर डीएलएड परीक्षा 2020 में शामिल हो सकते हैं। इसके लिए परीक्षार्थियों को 22 जनवरी तक एमपी ऑनलाइन के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन करना था। साथ ही मंडल ने प्रथम और द्वितीय वर्ष के लिए परीक्षा कार्यक्रम भी जारी कर दिया है।

ये होगा परीक्षा कार्यक्रम

परीक्षा कार्यक्रम के अनुसार डीएलएड प्रथम वर्ष के लिए 20 फरवरी को बचपन एवं बाल विकास, 22 फरवरी को समसामयिक भारतीय समाज में शिक्षा, 23 फरवरी को शिक्षा समाज पाठ्यक्रम और शिक्षार्थी, 24 फरवरी को स्वयं की पहचान, 25 फरवरी को भाषाई समझ, प्रारंभिक साक्षरता और हिंदी शिक्षण, 26 फरवरी को गणित शिक्षण प्रारंभिक स्तर एक और एक मार्च को प्रोफिशिएंसी इन इंग्लिश की परीक्षा आयोजित की जाएगी।

अब सीएम हेल्पलाइन से मिलेंगे खसरा-खतौनी : लोक सेवा केंद्र जाने की नहीं पड़ेगी जरूरत

वहीं, डीएलएड द्वितीय वर्ष की परीक्षा 20 फरवरी को सामाजिक-सांस्कृतिक परिपे्रक्ष्य में संज्ञान एवं अधिगम, 22 फरवरी को शिक्षक और शालेय संस्कृति, 23 फरवरी को शालेय संस्कृति, नेतृत्व एवं परिवर्तन सहित अन्य विषयों की परीक्षा चार मार्च तक चलेगी। दोनों परीक्षाएं सुबह आठ से 11 बजे के बीच होंगी

Powered by Blogger.