MP : विंध्य और महाकोशल अब फड़फड़ा सकते हैं, उड़ नहीं सकते : भाजपा विधायक का ट्वीट

कैबिनेट में विंध्य और महाकोशल को जगह न मिल पाने की वजह भाजपा विधायकों में असंतोष है,जिले से मंत्री न होने की वजह से विकास कार्य बाधित होते हैं ऐसा मानना विधायकों का है। शिवराज कैबिनेट विस्तार के बाद बीजेपी नेताओं में विरोध के स्वर उठने लगे हैं। इसको लेकर पूर्व मंत्री एवं जबलपुर से विधायक अजय विश्ननोई ने सोशल मीडिया पर लिखा है- महाकौशल के 13 भाजपा विधायकों में से एक को तथा विंध्य में 18 भाजपा विधायकों में से एक को राज्य मंत्री बनने का सौभाग्य मिला है। महाकौशल और विंध्य अब फड़फड़ा सकते हैं उड़ नहीं सकते। महाकौशल और विंध्य को अब खुश रहना होगा खुशामद करते रहना होगा।

पूर्व मंत्री व क्षेत्रीय विधायक राजेंद्र शुक्ल की बड़ी पहल : अब बीहर रिवर फ्रंट के साथ इनको भी मिलेगा बढ़वा : पढ़िए

शिवराज कैबिनेट विस्तार में केवल सिंधिया समर्थक 2 विधायकों को शपथ दिलाई गई। इसके बाद भी कैबिनेट में 4 पद खाली हैं। बीजेपी के वरिष्ठ विधायकों को उम्मीद थी कि उन्हें भी कैबिनेट में शामिल कर लिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यही वजह है कि सोशल मीडिया पर अजय विश्नोई ने अपना दर्द साझा किया है।

पद्मधर पार्क में 12 जनवरी को होगा कांग्रेस का बड़ा किसान सम्मेलन : प्रदेश के कई बड़े नेता होंगे शामिल

उन्होंने आगे लिखा है कि मध्यप्रदेश में सरकार का पूर्ण विस्तार हो गया है। ग्वालियर, चंबल, भोपाल, मालवा क्षेत्र का हर दूसरा भाजपा विधायक मंत्री है। सागर, शहडोल संभाग का हर तीसरा भाजपा विधायक मंत्री है। विश्नोई ने इशारा किया है कि कैबिनेट में जगह देने के मामले में महाकौशल और विंध्य क्षेत्र की उपेक्षा की जा रही है। बता दें कि विश्नोई शिवराज सरकार के पहले कार्यकाल में स्वाथ्य मंत्री रह चुके हैं।

इंदौर जिले के इस गांव में विधायक राजेन्द्र शुक्ला के योगदान से बनेगा भगवान परशुराम का भव्य मंदिर, 11 लाख रूपये का दिया अनुदान : पढ़िए 

पहले विस्तार के दौरान सीएम ने बुलाया था

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 2 जुलाई 2020 को कैबिनेट का पहला विस्तार किया था तब 28 विधायकों को मंत्री बनाया गया था। सूत्रों का कहना है कि 1 जुलाई को मुख्यमंत्री ने बीजेपी के ऐसे 3-4 विधायकों को सीएम हाउस बुलाकर बात की थी, जिन्हें उस समय मंत्री नहीं बनाया गया था। उनमें अजय विश्नोई भी शामिल थे।

संगठन में शामिल करने का दबाव

बीजेपी सूत्रों की माने तो जिन वरिष्ठ विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया है, वे संगठन में पद पाने का दबाव बना रहे हैं। अजय विश्नोई, रामपाल सिंह, गिरीश गौतम(विंध्य) सहित अन्य मंत्री पद के दावेदारों ने प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा से कई बार मुलाकातें कर चुके हैं।

राय ने कहा था – राजनीति पॉवर का गेम है

अजय विश्नोई से पहले बीना विधायक महेश राय ने कैबिनेट विस्तार पर इशारों-इशारों में निशाना साधते हुए कहा कि राजनीति पॉवर का गेम होता है। उन्होंने बीना में बायपास बनाने को लेकर नगरीय विकास व आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह पर भी तंज कसा। महेश राय ने कहा कि मेरे पड़ोस की विधानसभा में विकास कार्य हो रहे हैं, अगर मैं भी महत्वपूर्ण पद पर होता तो मेरी विधानसभा में भी विकास होता।

कांग्रेस ने साधा निशाना

विश्नोई के बयान पर प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने कहा – अजय विश्नोई ने बिलकुल ठीक कहा है। अब बीजेपी में 2 गुट हैं। शिवराज का गुट और सिंधिया का गुट। बीजेपी में बिके हुए की चल रही है, योग्यता की उपेक्षा हो रही। पद खाली हैं,जो राजनीतिक हित साधने में भविष्य में काम आएंगे।

भूपेंद्र गुप्ता ने कसा तंज – पिंजड़े के पंछी रे, तेरा दर्द न जाने कोए

कांग्रेस के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने विश्नोई के बयान को लेकर तंज कसा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि पिंजड़े के पंछी रे, तेरा दर्द न जाने कोए।

Powered by Blogger.