REWA : CM शिवराज के आगमन से निरीक्षण की तैयारियों पर अधिकारियों की उड़ी नींद, योजनाओं की हकीकत उजागर होने का सता रहा डर

रीवा। शहर में आगामी 25 जनवरी को मुख्यमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम ने अफसरों की नींद उड़ा दी है। लगातार अधिकारियों की ओर से तैयारियां की जा रही हैं। इस बीच भोपाल से सूचना आई है कि किसी भी स्थान पर आकस्मिक रूप से पहुंचकर मुख्यमंत्री आम लोगों से योजनाओं की वास्तविक स्थिति की जानकारी ले सकते हैं।

मुख्यमंत्री के दौरे के लिए अधिकारियों को सौंपी गई जिम्मेदारियां

अब अधिकारियों की मुश्किलें यह बढ़ गई हैं कि कई ऐसी योजनाएं हैं जिनकी वजह से लोग लगातार परेशान हो रहे हैं और शिकायतें लेकर अधिकारियों के पास पहुंच रहे हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री यदि स्वयं मौके पर पहुंचते हैं तो शिकायत के साथ ही योजनाओं की जमीनी हकीकत उजागर होने का डर सता रहा है।

शराब की भट्टियां तत्काल बंद करवाए नहीं तो थाना प्रभारियों पर होगी कार्यवाही : आईजी उमेश जोगा

वहीं नगर निगम के अधिकारियों के पास निर्देश आए हैं कि आगामी पांच साल में विकास की क्या रूपरेखा होगी इसकी योजना तैयार की जाए। इस पर तैयार की गई रिपोर्ट की समीक्षा निगम आयुक्त के साथ ही कलेक्टर भी कर रहे हैं ताकि किसी तरह कमियां नहीं रह जाएं। शहर में इनदिनों सबसे बड़ी समस्या चोरहटा से रतहरा तक के मुख्य सड़क की है।

शहर में युवती के आपहरण से मचा हड़कंप, महिला समेत तीन नामजद : साइबर की मदद से आरोपियों की तलाश जारी

जहां पर जगह-जगह गड्ढे हैं और पूरी सड़क से धूल उड़ रही है लोगों का निकलना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में विरोध प्रदर्शन का डर भी बना हुआ है। बीते महीने किसान सम्मेलन में रीवा आए मुख्यमंत्री को इस सड़क की वस्तु स्थिति कहीं न दिख जाए इस भय के चलते चोरहटा हवाई पट्टी से सीधे टीआरएस कालेज तक लाए जाने के बजाए बायपास होते हुए विश्वविद्यालय मार्ग से लाया गया। जिसमें मुख्यमंत्री का काफी समय भी बरबाद हुआ था।

कलेक्टर ने आम जनता के 168 आवेदनों पत्रों में की जन सुनवाई

बड़े प्रोजेक्ट सबसे अधिक बने मुसीबत

शहर के बड़े प्रोजेक्टों के कामकाज को लेकर सबसे बड़ी समस्या उत्पन्न हो रही है, जिसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है। मुख्य सड़क मार्ग के साथ ही सीवरेज प्रोजेक्ट के कार्यों ने लोगों को सड़क पर निकलना मुश्किल कर रखा है। इसी तरह पेयजल की पाइपलाइन कब कहां टूट जाए इसकी भी कोई गारंटी नहीं है। जगह-जगह खुली नालियां, सड़कों पर गड्ढे और ऊपर से कचरों का ढेर सहित अन्य कई समस्याए हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना जिसे ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में देखा जा रहा है, उसकी भी स्थिति काफी चिंताजनक है। पूर्व में कई जगह पर सीएम अधिकारियों की लापरवाही पर बड़ी कार्रवाई भी कर चुके हैं, इसलिए नगर निगम के अधिकारी इनदिनों रातदिन अपनी तैयारियों में जुटे हुए हैं।

न्यायालय में प्रत्येक व्यक्ति मास्क पहनकर ही करे प्रवेश : जिला व सत्र न्यायाधीश अरुण कुमार सिंह

सड़क किनारे दुकानें सजानों पर कार्रवाई, कई व्यापारियों की सामग्री जब्त

रीवा। शहर के कई हिस्सों में सड़कों के किनारे दुकानों की सामग्री सजाने पर अब नगर निगम ने कार्रवाई प्रारंभ की है। जिसके तहत कुछ को समझाइश देकर छोड़ा गया तो कइयों की सामग्री भी जब्त की गई है। बताया गया है कि सिरमौर चौराहे से धोबियाटंकी तक नगर निगम के अतिक्रमण उडऩदस्ता ने कार्रवाई की। जिसके तहत सड़क किनारे गुमटियां रखकर कारोबार करने वाले कई व्यवसाइयों को हटाया गया है। कई स्थानों पर सड़क किनारे चूल्हा गैस की कई दुकाने संचालित हंै तथा दुकानदार अपनी सामग्री दुकान के बाहर रखकर व्यापार कर रहे थे, सामग्री दुकान के भीतर कराई गई और चेतावनी दी गई है कि यदि दोबारा सड़क पर सामग्री पाई जाएगी तो सख्त कार्रवाई करते हुए सामग्री की जब्ती होगी। इसके साथ ही शहर मे लगे अवैध बैनर-पोस्टर, होर्डिंग, पम्पलेट को स्टेच्यू चौैराहा, जय स्तंभ, सॉईमंदिर, प्रकाश चौराहा, शिल्पी प्लाजा एवं गुढ् चौराहा आदि स्थानों से हटाया गया है। गुढ़ चौैराहा के पास संचालित शराब की दुकान के संचालक द्वारा अवैध रूप से शेड बनाकर शराब पिलाने का कार्य किया जा रहा था। निगम के दस्ते ने शेड को हटा दिया है। इस कार्रवाई में अतिक्रमण उडऩदस्ते के प्रभारी राजेश चतुर्वेदी, अच्छेलाल पटेल, रावेन्द्र शुक्ला, ज्ञानेन्द्र द्विवेदी आदि शामिल रहे।

Powered by Blogger.