REWA : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में शहीद हुआ रीवा का लाल, नम आंखों से पार्थिव शरीर का इंतजार कर रहे लोग

Telegram

होली के समय छुट्टी में आकर अपने पिता का इलाज करवाने का वादा करने वाला CAF (छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स) 22वीं बटालियन का वीर जवान नक्सली हमले में वीरगति को प्राप्त हुआ है। उनके शहादत की खबर पहुंचते ही पूरे गांव में मातम छा गया। लोग अब नम आंखों से अपने लाल के पार्थिव शरीर का इंतजार कर रहे हैं।

छग नक्सल IED ब्लास्ट की चपेट में आया रीवा का CAF हेड कांस्टेबल : निर्माणाधीन पुल की सुरक्षा में तैनात था शहीद

त्योंथर तहसील बरछा गांव निवासी लक्ष्मीकांत द्विवेदी छत्तीसगढ़ में पदस्थ थे। उनकी ड्यूटी ई-कंपनी कैम्प छिंदनगर दंतेवाड़ा में थी। सुबह 9:30 बजे उन्होंने अपने घर वालों से आखिरी बार फोन पर बात की थी और अपने पिता को यह भरोसा दिलाया था कि छुट्टी में आकर वे उनका इलाज करवाएंगे, लेकिन चंद घंटों बाद ही उनके शहादत की खबर घर पहुंच गई।

प्रेमप्रसंग में युवक- युवती ने ट्रेन से कूदकर दी अपनी जान : लड़की नाबालिग थी ; आठ दिन से लापता था युवक

नक्सली हमले में वे शहीद हो गए। उनके शहादत की खबर सुनकर लोगों की आंखें भर आई। जिस पुत्र ने उनका इलाज करवाने का वादा किया था उसके शहादत की खबर पर अभी भी पीड़ित पिता को विश्वास नहीं हो रहे है। उनकी दो बेटियां थी। बड़ी बेटी रुचि 7 साल की है और छोटी बेटी पारुल 3 साल की हैं।

दंतेवाड़ा में शहीद हुआ रीवा का लाल लक्ष्मीकांत दिवेदी : प्रेशर IED ब्लास्ट की चपेट में आया था जवान

ग्राम बरछा में होगा अंतिम संस्कार

नक्सली हमले में शहीद हुए जवान लक्ष्मीकांत द्विवेदी का पार्थिव शरीर शुक्रवार की दोपहर तक उनके गृह ग्राम बरछा पहुंचने की उम्मीद है। हेलीकॉप्टर से पार्थिव शरीर रायपुर लाया गया है और वहां से विशेष वाहन से पार्थिव शरीर उनके गृह ग्राम बरछा लाया जाएगा। यहां पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। शहीद के अंतिम संस्कार को लेकर प्रशासन ने सारी तैयारियां पूरी कर ली गईं है।

Powered by Blogger.