MP में किसान ने दी जान : शार्ट सर्किट से डेढ़ एकड़ में खड़ी फसल खाक, किसान ने पी लिया कीटनाशक

पोस्टमार्टम रूम के पास खड़ा मृतक का बेटा और अन्य परिजन।

    दमोह .आग लगने से खेत में खड़ी फसल जलने के सदमे में किसान ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली। घटना दमोह जिले के नोहटा थाना क्षेत्र के ग्राम चिलोद टपरिया की है। सूचना के अनुसार बेदी उर्फ कोदूराम पिता रामसिंग (55) निवासी चिलोद टपरिया के खेत में गेहूं की फसल तैयार खड़ी थी। दो से तीन दिनों में फसल की कटाई करने वाले थे लेकिन बुधवार शाम अचानक फसल में आग लग गई।

    पढ़िए इन दो लुटेरी दुल्हन की कहानी: कपड़ा व्यापारी के भाइयों से शादीकर दो महीने बाद 8 लाख के गहने और 7 लाख कैश लेकर फरार

    आग लगने से डेढ एकड़ में लगी गेहूं की फसल पूरी तरह जलकर राख हो गई। फसल जलने के सदमे में कोदूराम ने बुधवार रात कीटनाशक पी लिया। तबीयत बिगड़ने पर परिजन ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उपचार के दौरान किसान कोदूराम की मौत हो गई। मामले की सूचना पर नोहटा पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव का पंचनामा बनाया और गुरुवार को पीएम कराया। पीएम कराकर शव परिजन को सौंप दिया गया। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामला जांच में लिया है।

    कोरोना ब्लास्ट के बाद पुलिस सख्त, सड़कों पर हुड़दंग मचाया तो होगी कार्यवाही : नशा करने वालों की खैर नहीं

    पड़ोसी की भी जली फसल, नुकसान की भरपाई का बना रहा था दबाव

    मृतक के बेटे रामशंकर ने बताया खेत में खड़ी फसल में बिजली के शॉर्ट सर्किट के कारण आग लगी थी। आग लगने से मेरी फसल और आसपास सटे खेतों की फसल जली थी। रामशंकर ने आरोप लगाते हुए कहा आग लगने से पड़ोसी बब्बू राय की भी फसल जली थी। उसने पिता से कहा तुम्हारी गलती से मेरी फसल जली है। इसके नुकसान की भरपाई तुम्हें करना पड़ेगी। पुलिस थाने में भी शिकायत की।

    ग्वालियर दर्दनाक हादसा : मम्मी कहा था काम पर मत जा, नहीं मानी ,पापा तो पहले ही चले गए, तुम भी छोड़ गई

    जबकि मेरे खेत में न तो बिजली कनेक्शन है और न ही अन्य कोई बिजली सप्लायर की व्यवस्था। खेत से निकले बिजली वायर में फॉल्ट से आग लगी थी। इन्हीं कारणों के चलते पिता परेशान थे। उन्होंने फसल जलने और पड़ोसियों के दबाव के कारण कीटनाशक पीकर आत्महत्या की है। मामले में पुलिस जांच कर रही है।

    Powered by Blogger.