MP : कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों में बड़ी संख्या पर मिल रहे ब्लैक फंगस के केस : मरीजों का अध्ययन करेगी विशेषज्ञों की समिति

Black Fungus in Indore। कोरोना से ठीक होने वाले लोगों में ब्लैक फंगस म्यूकरमोइकोसिस के केस बड़ी संख्या में सामने आ रहे हैं। इन प्रकरणों के अध्ययन के लिए संभागायुक्त डा. पवन कुमार शर्मा ने इन प्रकरणों के अध्ययन के लिए विशेषज्ञों की समिति गठित की है। यह समिति विस्तृत अध्ययन के बाद अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। यह समिति 124 मरीजों के प्रकरणों का अध्ययन करेगी। इसमें प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्ष मेडिसिन अध्यक्ष डा. वीपी पांडे, रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग सदस्य डा. दीपक बंसल, प्राध्यापक और विभागाध्यक्ष ईएनटी सदस्य डा. यामिनी गुप्ता, प्राध्यापक नेत्र रोग विभाग सदस्य डा. श्वेता वालिया, प्राध्यापक दंत चिकित्सा विभाग सदस्य डा. विलास नेवासकर और सहायक प्राध्यापक एमजीएम सदस्य डा. अमित थोरा सदस्य के रूप में रहेंगे। इनके सहयोग के लिए बांबे अस्पताल के डा. मनीष जैन, अरबिंदो अस्पताल के डा. रवि डोशी और चोइथराम अस्पताल के डा. सुनील चांदीवाल शामिल किए गए हैं।

बच्चों की सक्रियता देख पुलिस हैरान : लॉकडाउन में स्कूल हुआ बंद तो नाबालिगों ने ज्वाइन कर लिया चोर गिरोह

संभागायुक्त ने बताया कि यह तथ्य सामने आ रहा है कि इस बीमारी के प्रकरण न सिर्फ अस्पताल से उपचारित किए गए मरीजों के हैं, वरन इनमें से कुछ केस होम आइसोलेशन में से भी हैं। ऐसी स्थिति में यह जरूरी हो गया है कि इन प्रकरणों की केस हिस्ट्री का विस्तृत एवं सूक्ष्म अध्ययन किया जाए।

Cyclone Tauktae के कारण गुजरात और महाराष्ट्र अलर्ट पर, रेलवे ने कई ट्रेनें का परिचालन रोका : ट्रेन में यात्रा करने से पहले पढ़ ले ये जरुरी खबर

अध्ययन के बिंदुओं में कोविड पाजिटिव-निगेटिव की स्थिति (स्टेटस), होम आइसोलेशनइंस्टीट्यूशनल ट्रीटमेंट, बीमारी की अवधि (ड्यूरेशन आफ इलनेस), स्टेरायड आडिटस्टेरायड का प्रयोग और मात्रा (यूज आफ स्टेरायड), ली गई दवाइयों (ड्रग्स यूज्ड एंटीबायोटिक्स, टोसी, आदि), गीले मास्क का उपयोग (यूज आफ माइस्ट मास्क), यूज आफ आक्सीजन (थ्रू वाटर/सेल्फ/सिलिंडर) और को- मार्बिडिटी/डायबिटीज स्टेटस आदि शामिल हैं।

Powered by Blogger.