REWA : निजी BSC नर्सिंग/GNM प्रशिक्षण केंद्रों की छात्राओं की हो सकेगी नियुक्ति; 20 हजार रुपए तक वेतन मिलेगा

रीवा। मध्य प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए अब निजी BSC नर्सिंग/GNM में प्रशिक्षण केंद्रों की अंतिम वर्ष की छात्राओं की मदद ली जाएगी। इस संबंध में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन मध्यप्रदेश ने सभी जिला कलेक्टर और सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को पत्र जारी कर दिया है।

नहीं थम रही कोरोना की रफ़्तार; आज रीवा में 1554 जांचों में मिले 346 नए मरीज

इसमें कहा गया है कि कोविड-19 महामारी एवं नियंत्रण के लिए समय-समय पर जारी किए गए विभिन्न परिपत्रों के माध्यम से अस्थायी मानव संसाधन एवं नर्स स्टाफ को निश्चित समय अवधि के लिए रखने की अनुमति दी गई है। इसके माध्यम से शासकीय BSC नर्सिंग/GNM प्रशिक्षण केंद्रों की अंतिम वर्ष की छात्राओं का आकस्मिक पदस्थ जिला ग्वालियर, उज्जैन, रीवा, कटनी, विदिशा एवं बैतूल में की गई है।

लॉकडाउन में पुलिस के सख्त प्रयास जारी, दल बल के साथ शहर के अलग-अलग स्थानों पर दी दबिश

इसी को संज्ञान लेते हुए विभिन्न जिलों में BSC नर्सिंग/GNM उत्तीर्ण एवं नर्सिंग काउंसिल पंजीकृत उम्मीदवार उपलब्ध नहीं होने से वर्तमान में अस्थायी स्टाफ नर्स की पूर्ति करना संभव नहीं हो पा रहा है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा निर्णय लिया गया है कि यदि स्टाफ नर्स उपाधि धारक आवेदक प्राप्त नहीं हो रहे हैं, उस स्थिति में निजी नर्सिंग कालेज में BSC नर्सिंग/GNM पढ़ाई कर रहीं अंतिम वर्ष की छात्राओं को भी कोविड-19 की रोकथाम के लिए अस्थायी मानव संसाधन के रूप में 30 जून 2021 तक नियुक्ति दी जा सकती है। उन्हें प्रति माह 20 हजार रुपए तक वेतन दिया जा सकता है।

Powered by Blogger.