MP : अवैध शराब को रोकने SP सुनील पाण्डे का भोपाल ट्रांसफर, मुरैना के नए SP बने ललित शाक्यवार

जिले के एसपी सुनील कुमार पांडे का ट्रांसफर भोपाल पुलिस हेडक्वार्टर कर दिया गया है। उनकी जगह ललित शाक्यवार को नया एसपी बनाया गया है। जिले में जहरीली शराब से दो दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत के बाद उन्हें पांच माह पहले ही 21 जनवरी को मुरैना पदस्थ किया गया था। बताया जा रहा है कि उन्होंने शराब माफियाओं पर लगातार कार्रवाई, गुर्जर समाज के 19 लोगों पर एफआईआर, ये दो बड़ी वजहों से एसपी का ट्रांसफर किया गया है।

कोरोना के बाद ब्लैक फंगस का बढ़ा खतरा : अब तक 537 केस आए : रीवा समेत इन मेडिकल कालेजों में होगा फ्री इलाज

21 जनवरी 2021 को सुनील कुमार पांडे को मुरैना एसपी बनाया गया था। मुख्य कारण छैरा व मानपुर गांव में जहरीली शराब से 24 लोगों की मौत होना था। इन मौतों के पीछे शासन ने जिला प्रशासन को लापरवाही का दोषी माना था। उसी वक्त तत्कालीन एसपी अनुराग सुजानियां और तत्कालीन कलेक्टर अनुराग वर्मा को हटा दिया था।

CM शिवराज ने दिए संकेत : 1 जून से अनलॉक, सीमित संख्या में विवाह समारोह की मिलेगी अनुमति

नए एसपी सुनील कुमार पांडे के ट्रांसफर के पीछे शासन को उद्देश्य जिले के शराब माफियाओं पर लगाम लगाना था। सुनील कुमार इस मंशा में खरे भी उतरे। यह नकेल जिले के राजनैतिक आकाओं के गले नहीं उतरी। उन्हें अपना धंधा खतरे में नजर आने लगा।

इतिहास में इतनी मौतें पहले कभी नहीं हुईं : सरकारी झूठ की हद देखिए... 61 दिनों में रिकॉर्ड 26,399 अंतिम संस्कार हुए और कोरोना से सिर्फ 11,467 मौतें बताई

पूर्व भाजयुमो जिलाध्यक्ष पर की कार्रवाई

एसपी के नेतृत्व में सबलगढ़ में पूर्व भाजयुमों जिलाध्यक्ष देवेन्द्र जादौन के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। उनके गोदाम पर छापा मार कर बड़ी मात्रा में अंग्रेजी शराब पकड़ी गई थी। शराब की कीमत 4 लाख, 80 हजार रुपए बताई गई थी।

दुकानदारों ने सामान बेचने का बदला ट्रेंड : लॉकडाउन में घर से कर रहे सप्लाई, उधार के साथ ऑनलाइन से भी सस्ता मिल रहा सामान

विधायक तक की नहीं मानी

करीब एक माह पूर्व चिन्नौनी थाना पुलिस ने बड़ी मात्रा में शराब पकड़ी थी। पुलिस ने केवट रावत को भी पकड़ा था। उसके मोबाइल डिटेल खंगाली, तो उसमें जिले के एक विधायक के भतीजे का भी नाम था। उसके खिलाफ एसपी ने मामला दर्ज कर लिया था।

दुकानदारों ने सामान बेचने का बदला ट्रेंड : लॉकडाउन में घर से कर रहे सप्लाई, उधार के साथ ऑनलाइन से भी सस्ता मिल रहा सामान

बताया जाता है, विधायक ने एसपी को फोन करके मामला दर्ज न करने को कहा था। बताया जाता है, इसी बात से विधायक चिढ़ गए। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को पत्र लिख कर एसपी के ट्रांसफर की सिफारिश कर डाली थी। इसके बाद 8 मई को मुरैना में गुर्जर समाज के लोगों ने सामूहिक रुप से सरेआम फायरिंग की थी।

दो दिन का अलर्ट जारी : रीवा समेत कई हिस्सों में तेज हवा के साथ हुई बूंदाबांदी,  लोगों को घरों से ना निकलने की सलाह

मामले में एसपी ने गुर्जर समाज के 19 लोगों के खिलाफ एफआईआर की थी। साथ ही, 24 अन्य को आरोपी बनाया है। इस पर गुर्जर समाज के लोग भी नाराज थे। लिहाजा, उसी समय एसपी सुनील कुमार के ट्रांसफर की अफवाह भी उड़ाई गई थी।

बड़ा फैसला : प्रिंट, इलेक्ट्रानिक व डिजिटल मीडिया कर्मियों व उनके परिवार का काेराेना के इलाज का खर्च उठाएगी सरकार

शराब माफियाओं पर कसी लगाम

मामले में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव पंकज उपाध्याय का कहना है कि एसपी सुनीर कुमार का ट्रांसफर अवैध शराब को रोकने के कारण हुआ है। उन्होंने नकली व अवैध शराब को रोकने के लिए लाया गया था। उन्होंने इस ओर कार्य भी किया। इसी बीच, जौरा विधायक द्वारा उनके रिश्तेदारों पर कार्रवाई न करने की बात एसपी पाण्डे से कही गई थी, जो उन्होंने नहीं मानी। इस कारण एसपी का ट्रांसफर किया गया है। उम्मीद है नए एसपी शराब माफियाओं पर अंकुश लगाने में सफल होंगे।

Powered by Blogger.