REWA : ऐसे भी होते है अफसर / सड़क हादसे में घायल दो चालकों को तुरंत भेजवाया अस्पताल

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

   

(एमपी 17 से निधी तिवारी की ग्राउंड रिपोर्ट) रीवा। किल कोरोना अभियान का जायजा लेने जा रहे दो आईएएस अफसरों की दरियादिली दिखाने का मामला सामने आया है। यहां रीवा-सिरमौर हाइवे से गुजर रहे अधिकारियों ने मानवीय संवेदना दिखाते हुए सड़क हादसे में घायल लोगों को देखकर रूक गए। तुरंत लग्जरी वाहन से उतरते हुए प्रशासनिक अधिकारियों ने घायलों से कारण जानते हुए पुलिस और 108 एंबुलेंस की सूचना दी।

लॉकडाउन में पुलिस फ्लैग मार्च निकालने में व्यस्त उधर शहर से लेकर गांव तक चोरियों की बढ़ रहीं वारदातें

जानकारी के बाद सगरा पुलिस मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू करते हुए आनन फानन में घायलों को संजय गांधी अस्पताल भेजवाया है। सड़क में आईएएस अफसरों का ये रूप देखकर जहां ग्रामीणों ने जमकर प्रशंसा की। वहीं ​पुलिस और चिकित्सका विभाग के अफसर भागते भागते मौके पर पहुंचने के लिए मजबूर हो गए।

अजीबोगरीब मामला / पति के साथ रात में बिस्तर पर सो रही महिला के साथ बलात्कार : फिर ..

मिली जानकारी के मुताबिक शनिवार की शाम रीवा संभागायुक्त अनिल सुचारी और कलेक्टर डॉ. इलैया राजा टी किल कोरोना अभियान का जायजा लेने के लिए सिरमौर जा रहे थे। उन्हें सगरा गांव के पास दो वाहन दुर्घटनाग्रस्त दिखे। वहीं हादसे के ​शिकार ट्रक व हाइवा चालक रोड पर पड़े दिखायी दिये। पूछताछ में आईएएस अफसरों को लोगों ने बताया कि लगभग दस मिनट पहले अनाज से भरे ट्रक में पीछे से हाइवा द्वारा जोरदार टक्कर हुई थी। जिसमें हाइवा वाहन के दोनों चालक बुरी तरह घायल हो गये थे।

पुलिस के खिलाफ खोला मोर्चा : सब्जी वालों की पिटाई पर भड़के किसान, CM से की मांग तत्काल हटाया जाए जिले का SP

ऐसे में तुरंत आईएएस अधिकारी भी पीछे से मौके पर पहुंच गए। उन्होंने तुरंत सगरा पुलिस को फोन कर बुलवा। साथ ही कमिश्नर और कलेक्टर ने तत्काल पुलिस अधिकारियों और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। हादसे की सूचना के बाद चिकित्सका विभाग के अधिकारियों ने आनन फानन में 108 एंबुलेंस को घटनास्थल पर भेजा। जहां से घायलों को हास्पिटल के लिए रवाना किया गया। तब कहीं जाकर दोनों संवेदनशील अधिकारी आगे के लिए रवाना हुए।

कमिश्नर एवं कलेक्टर घर- घर जाकर लोगों को कर रहें जागरूक : कोरोना कर्फ्यू का सुनिश्चित कराए पालन

समय पर उपचार मिलने से बची दोनों युवकों की जान

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हादसें में घायल दोनों चालक बुरी तरह जख्मी हो गए थे। ऐसे में दोनों घायलों को समय पर उपचार सहायता मिलने से ही जान बची है। अगर यही घायल घंटों बाद अस्पताल पहुंचते तो शायद इनको हम लोग न बचा पाते। वहीं घायल चालकों ने डियूटी डॉक्टर को बताया कि हम दोनों अधिकारियों की बदौलत समय पर अस्पताल पहुंचे है। अगर अधिकारी न आते तो हम दोनों वहीं पर मर गए होते। काश हर अधिकारी अपनी डियूटी करे तथा अपने कार्य के प्रति संवेदनसील रहे तो हादसे रूक सकते है।

Powered by Blogger.