World Bicycle Day 2021: सेहत की फिक्र ने तीन गुना तक बढ़ाई साइकिल की दीवानगी

इंदौर। कोरोना संक्रमण ने लोगों को सेहत के प्रति और भी सचेत कर दिया है। इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले एक साल में साइकिल की बिक्री में तीन गुना तक का इजाफा हुआ है। पहले इंदौर शहर में एक साल में करीब 25 से 30 हजार साइकिल बिकती थीं, इस बार यह आंकड़ा 80 हजार के पार हो गया है। साइकिल के प्रति लोगों की पसंद का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कुछ कंपनियों की प्रीमियम साइकिल खरीदने के लिए लोगों को तीन से चार माह तक का इंतजार करना पड़ रहा है। डाक्टर साइकिलिंग को सेहत के लिए बेहतर बताते हैं और कोरोना संक्रमण के इस दौर में तो साइकिलिंग करना श्वसन तंत्र के लिए और भी बेहतर साबित हो रहा है। साइकिलिंग करने वालों में बच्चों से लेकर उम्रदराज लोगों तक की संख्या में बढ़त हुई है।

15 जून से स्कूलों में एडमिशन की प्रक्रिया शुरू, लेकिन नहीं खुलेंगे स्कूल : पढ़िए पूरी जानकारी

इंदौर साइकिलिंग क्लब की मैनेजिंग कमेटी के सदस्य सीए तरुण महाजन के अनुसार, वर्षभर में साइकिल चलाने वालों की संख्या में करीब तीन गुना बढ़त हुई है। इसकी बड़ी वजह स्पोर्ट्स क्लब, जिम, स्वीमिंग पुल का बंद रहना है, जिसके चलते लोगों ने फिटनेस बरकरार रखने के लिए साइकिल चलानी शुरू कर दी। शहर में करीब एक हजार लोग ऐसे हैं जो प्रतिदिन 25 से 30 किमी साइकिल चलाते हैं।

सरकार पर गंभीर आरोप लगाते कहा- क्या ये ड्यूटी का इनाम है, हड़ताल रद्द कराने के लिए घर पर पुलिस भेजकर माता-पिता को धमकाया

महिलाओं ने भी ली रुचि

साइकिल की मैराथन आयोजित कराने वाली भारती बड़ोदिया बताती हैं कि प्रतिवर्ष मई में वे यह आयोजन करती थीं। दो वर्ष पहले तक हुए इस आयोजन में करीब सात सौ महिलाएं शामिल होती थीं लेकिन अब इससे कहीं ज्यादा महिलाएं साइकिल चलाने लगी हैं। सेहत के उद्देश्य से वर्तमान में करीब पांच हजार महिलाएं साइकिल चलाती हैं।

भोपाल, इंदौर, जबलपुर समेत इन सभी जिलों में झमाझम बारिश की संभावना

तीन साल की बिक्री एक साल में : द साइकिल वर्ल्ड के हरीश कारड़ा के अनुसार, वर्षभर में साइकिल की बिक्री में आश्चर्यजनक रूप से इजाफा हुआ है। गत वर्ष लगे लाकडाउन से पहले जितनी साइकिल वर्षभर में बिकती थीं, उससे कहीं ज्यादा अब चंद महीनों में बिकने लगी हैं। तीन साल की बिक्री अब एक साल में ही हो गई है। एक साइकिल शोरूम से जहां पहले एक वर्ष में पांच से छह हजार साइकिल बिकती थीं, अब वहां से 17 से 18 हजार साइकिल बिक रही हैं। इस अनुपात में यह आंकड़ा 80 हजार पार कर गया है।

सीहोर ट्रेन में युवती की हत्या का खुलासा : युवक 3 साल से कर रहा था परेशान, धमकी भी दी- शादी कर लो, नहीं तो जान से मार दूंगा

फेफड़ों के लिए बेहतर है

साइकिल चलाना एक बेहतर व्यायाम है। इससे घुटने व पैर के अन्य जोड़ तो लचीले होते ही हैं, फेफड़ों का भी व्यायाम होता है। साइकिल चलाने से फेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ती है और वे जितने फैलते-सिकुड़ते हैं उतना ही बेहतर होता है। साइकिलिंग से रक्त संचार भी बेहतर होता है। साइकिल की गति या दूरी उतनी ही रखें जितनी आप सांस फूले बिना चला सकें।  डा. संजय लोंढे चेस्ट रोग विशेषज्ञ

Powered by Blogger.