MP : हत्या का खुलासा : पहले तकिया से मुंह-नाक दबाकर हत्या करना चाहा, फिर सफल नहीं हुआ तो गले में साफी डालकर गला घोंट दिया

ग्वालियर में एक एक सनसनीखेज हत्या का खुलासा हुआ है। युवक की हत्या करने वाला उसका दूसरे नंबर का भाई निकला है। मृतक दिव्यांग था और उसपर बोझ बनता जा रहा था। इस पर उसने आधी रात को पहुंचकर उसकी हत्या कर दी। पहले तकिया से मुंह-नाक दबाकर हत्या करना चाहा था, लेकिन सफल नहीं हुआ तो गले में साफी डालकर गला घोंट दिया। पुलिस से कहा कि बड़े भाई ने हत्या की। वहीं बड़ा भाई उस पर हत्या का आरोप लगाया था।

विशेष महाअभियान / 1 जुलाई को कोविशील्ड का पहला और दूसरा डोज और 3 को कोवैक्सिन का सिर्फ दूसरा डोज लगेगा

घटना तीन दिन पहले महाराजपुरा के भौंडेरी गांव की है। हत्या का खुलासा बातों ही बातों में हुआ है। सामान्य पूछताछ में मझौले भाई ने अचानक कह गया साफी से किसी ने गला दबाया है। यह सुनकर पुलिस ने उससे पूछताछ की फिर पूरे मामले का खुलासा हुआ।

MP में कॉलेज हुए UNLOCK : 1 अगस्त से ADMISSION शुरू, चरणबद्ध तरीके से थर्ड और फाइनल ईयर की कक्षाएं 2 अगस्त से आरंभ, फर्स्ट ईयर की 15 सितंबर से शुरू होंगी

यह है पूरा मामला

तीन दिन पहले महाराजपुरा थाना क्षेत्र के भौंडेरी गांव में 40 वर्षीय नेतराम गुर्जर पुत्र रूप सिंह गुर्जर का शव बड़े भाई श्रीकृष्ण सिंह के खेत में पड़ा मिला था। प्रारंभिक पड़ताल में ही साफ हो गया था कि मामला हत्या का है, क्योंकि मृतक के गले पर गला घोंटे जाने के निशान मिलने के साथ ही शरीर पर चोटें भी थीं। पुलिस ने शव को निगरानी में लिया और पड़ताल की तो पता चला कि मृतक पैर से दिव्यांग था। उसकी शादी भी नहीं हुई थी। मामले की जांच के लिए परिजनों से पूछताछ की तो मृतक के भाई एक दूसरे पर हत्या का आरोप लगा रहे थे।

MP सरकार का बड़ा फैसला : 12वीं BOARD में किसी भी स्टूडेंट्स को फेल नहीं किया जाएगा

ऐसे हुआ हत्या का खुलसा

भाइयों द्वारा एक दूसरे पर हत्या का आरोप लगाने पर पुलिस को संदेह हुआ। जिस पुलिस ने पड़ताल की तो पता लगा कि मृतक की जमीन पर बड़े भाई श्रीकृष्ण का कब्जा था, जबकि उसकी जिम्मेदारी मझौले भाई रामप्रीत पर थी। मामला उलझता उससे पहले ही पुलिस अफसरों ने दोनों भाइयों से अलग-अलग पूछताछ कराने व क्रॉस चेक करने के निर्देश दिए।

सीएम शिवराज का बड़ा ऐलान, रविवार का कोरोना कर्फ्यू समाप्त : नियमित रूप से खुल सकेंगे सभी प्रतिष्ठान

पूछताछ में करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद जब पुलिस अफसरों ने बातों ही बातों में रामप्रीत से गला घोंटने में क्या प्रयोग हुआ होगा पूछा, जिस पर उसने जवाब दिया कि साफी से गला घोंटा होगा। चोट का पूछा तो उसने बताया कि वह पत्थर पर सोता था और पत्थर से ही कोहनी पर चोट लगी है। इतना बोलने के बाद जब रामप्रीत को गलती का अहसास हुआ तो वह चुप हो गया, पर जब तक पुलिस पूरा मामला समझ लिया।

कोरोना की तीसरी लहर : भोपाल में 25 साल के युवक में डेल्टा प्लस की पुष्टि; राज्य सरकारों को अलर्ट जारी

इस तरह दिया वारदात को अंजाम

जब पुलिस ने अपने अंदाज में पूछताछ की आरोपी रामप्रीत ने सुनाई हत्या की कहानी। उसने बताया कि वह आधी रात घटना स्थल पर पहुंचा तो नेतराम सो रहा था। सबसे पहले उसने उसके मुंह पर तकिया लगाकर मारने का प्रयास किया, लेकिन उसने विरोध किया तो वह पटिया से नीचे गिर गया। तकिया हटा तो उसने तत्काल साफी से उसका गला घोंट दिया, क्योंकि तकिया से अचानक मुंह दबाने के कारण वह कमजोर पड़ गया था, जब उसकी मौत हो गई तो वह उसे पटिया पर लिटा कर चादर उठाकर भाग आया।

Powered by Blogger.