सिंगरौली : बाढ़ का कहर / तेज बारिश के बाद अचानक से नाले में आई बाढ़ ,एक ही परिवार के चार लोग बहे : दो बहनों की मौत : एक लापता

मध्यप्रदेश के सिंगरौली में 11 जून देर शाम नाले में बाढ़ का पानी आने से एक ही परिवार के चार लोग बह गए। इनमें से दो की मौत हो गई जबकि एक लापता है। उसकी तलाश की जा रही है। इनके अलावा चौथी एक बच्ची झाड़ियों में फंसने से बच गई। उसी ने पूरा घटनाक्रम पुलिस को बताया। इसके बाद रात में ही रेस्क्यू शुरू हो गया। 12 जून दोपहर तक दो सगी बहनों के शव बरामद हो गए जबकि लापता नौ साल की बच्ची का पता नहीं चल सका। यह परिवार घर के लिए लकड़ी लेने जंगल गया था जहां देर शाम लौटते समय तेज बारिश के बाद अचानक नाले में बाढ़ आ गई थी। रेस्क्यू टीम का कहना है कि ये नाला आगे जाकर गोपद नदी में हादसा सरई थाना अंतर्गत कोनी गांव के चोनाईया नदी के नाला का है।

सिंगरौली एएसपी अनिल सोनकर ने बताया कि कोनी गांव के 7 ग्रामीण शुक्रवार की दोपहर जंगल लकड़ी लेने गए थे। जो शाम करीब 7 बजे के आसपास पहाड़ उतर कर गांव की ओर मुड़े। जहां 3 ग्रामीण पहले नाला क्रॉस कर आगे निकल गए। वहीं जायसवाल परिवार के एक ही घर के 4 सदस्य चोनाईया नदी के बरसाती नाले को क्रॉस करते समय हादसे का शिकार हो गए। दावा है कि अचानक नाले में जंगल का पानी उतरा और बाढ़ का रूप ले​ लिया। बीच नाले की धार तक पहुंच गए।

60 लाख की लूट का पर्दाफाश, बहनोई ही निकला लुटेरा : तीन आरोपी गिरफ्तार

4 लोग जब तक कुछ समझ पाते, तब तक पानी के तेज बहाव में फंस गए। देखते ही देखते दो बच्चियां और दो सगी बहनें बह गई। एक मासूम बहते हुए पेड़ के झाड़ी में फंस गई। जो कुछ देर बाद निकलकर बाहर आ गई। वहीं जो तीन अन्य लोग पहले नाला क्रॉस कर चुके थे। जब ये चारों काफी देर तक नहीं लौटे तो वापस देखा की नाले में बाढ़ का पानी आ गया है। जबकि जिंदा बची मासूम बच्ची ने पूरी कहानी रात 8 बजे पुलिस और प्रशासन को बताई।

सिंगरौली जि‍ले में महिला और बेटे की धारदार हथियार से हत्या, 20 फिट दूर कमरे में सो रहे पिता को नहीं लगी हत्या की भनक

दो बहनों की एक दिन शादी और एक दिन मौत

पुलिस ने बताया कि सुप्रिया ​जायसवाल पिता श्रीकृष्ण जायसवाल (6) निवासी कोनी बच गई। अन्नू जायसवाल ​पति बाबूराम जायसवाल (31) निवासी कोनी और उर्मिला जायसवाल पति श्रीकृष्ण जायसवाल (30) निवासी कोनी का शव शनिवार को रेस्क्यू ऑपरेशन कर एसडीआरएफ ने एक साथ बरामद कर लिया है। ग्रामीणों का दावा है कि दोनों बहनों की एक ही गांव में एक साथ शादी हुई थी। जबकि एक ही दिन एक समय में दोनों की मौत हुई और एक ही जगह पर डेड बॉडी बरामद कर ली गई है। वहीं प्रियंका जायसवाल पिता रमेश जायसवाल (9) निवासी कोनी का पता नहीं चला है। मृतक उर्मिला जायसवाल की बेटी सुप्रिया ​जायसवाल बच गई।

घरों में या बंद कमरों में मास्क लगाए बिना बातचीत करने से बढ़ जाता है कोरोना वायरस खतरा : थूक की बूंदों में होते हैं वायरस

गोपद नदी में स्टीमर से होगा रेस्क्यू ऑपरेशन

जिला प्रशासन का कहना है कि जब तक प्रियंका जायसवाल पिता रमेश जायसवाल का पता नहीं चलता तब तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलेगा। एसडीआरएफ की टीम कुछ देर बाद गोपद नदी में स्टीमर की मदद से रेस्क्यू ऑपरेशन कर सकती है। ग्रामीणों का दावा है कि आगे यह नाला गोपद नदी में ही गिरता है। वहीं मौके पर थाना पुलिस, जिला प्रशासन की टीम, होमगार्ड, एसडीआरएफ सहित पुलिस के वरिष्ठ आला अधिकारी मौके पर डटे हुए हैं।

Powered by Blogger.